एक्शन में डीआईजी विकास वैभव, 72 घंटे के अंदर भागलपुर का तीसरा थानेदार सस्पेंड

एक्शन में डीआईजी विकास वैभव, 72 घंटे के अंदर भागलपुर का तीसरा थानेदार सस्पेंड

BHAGALPUR : भागलपुर के डीआईजी विकास वैभव पूरे एक्शन में हैं। केस दर्ज करने में आनाकानी करने को लेकर उन्होंने 72 घंटे के अंदर तीन थानेदार को सस्पेंड कर दिया है। ताजा मामला सुल्तानगंज के इंस्पेक्टर अमर विश्वास का है जिन्हें विकास वैभव ने सस्पेंड कर दिया है।

 सुल्तानगंज स्थित अजगैबी ज्वेलर्स में कारीगर का काम करने वाले छोटू उर्फ रंजीत कुमार के गायब होने मामले में केस दर्ज नहीं करने पर सुल्तानगंज थानेदार सह इंस्पेक्टर अमर विश्वास को डीआईजी विकास वैभव ने सोमवार को निलंबित कर दिया है। छोटू तातारपुर थाना क्षेत्र के मंदरोज़ा निवासी कृष्ण प्रसाद साह का पुत्र है। कृष्ण का पुत्र 25 मई से ही गायब था। 29 मई को वे सुल्तानगंज थाना बेटे के अपहरण का मामला दर्ज कराने गए। जिसमें उन्होंने अपनी बहन कल्याणी देवी और बहनोई बजरंगी प्रसाद साह पर अपहरण का आरोप लागाया था। लेकिन थाने में शिकायत दर्ज नहीं की गई। इसके बाद उन्होंने मामले की शिकायत डीआईजी से की। इस मामले में एसएसपी और डीएसपी ने भी केस दर्ज करने का निर्देश इंस्पेक्टर को दिया था। लेकिन उन्होंने इस बात को भी नजर अंदाज कर केस दर्ज नहीं किया।

 बता दें को 72 घंटे के भीतर डीआईजी ने केस दर्ज नहीं करने पर तीसरी कार्रवाई की है। बता दें कि विगत शनिवार को एक वृद्ध महिला की बेटी का अपहरण का केस दर्ज नहीं करने और डीआईजी के निर्देश का उल्लंघन करने पर भागलपुर जिला के सजोर थानाध्यक्ष एसआई शंकर दयाल प्रभाकर को सस्पेंड किया गया था।

 नवगछिया पुलिस जिला में थानेदार ने अपहरण का केस दर्ज नही किया, जिसके बाद रविवार सुबह अपहृत युवक का शव मिला। जिसके बाद लोगो मे पुलिस के विरुद्ध आक्रोश भड़क गया। इस मामले में डीआईजी ने नवगछिया थानाध्यक्ष इंस्पेक्टर लाल बहादुर को सस्पेंड कर दिया।

बता दें कि विकास वैभव ने डीआईजी भागलपुर के पद पर रहते हुए अब तक 18 हज़ार शिकायतकर्ताओं से सीधी मुलाकात की और समस्याओं से निजात दिलाया। ड्यूटी के प्रति लापरवाह और जनता को परेशान करने वाले 49 थानेदारों को निलंबित किया है।

Find Us on Facebook

Trending News