डिजिटल ट्रांजेक्‍शन के जरिए सरकारी बैंकों ने आपके अकाउंट से कमाए 10 हजार करोड़

डिजिटल ट्रांजेक्‍शन के जरिए सरकारी बैंकों ने आपके अकाउंट से कमाए 10 हजार करोड़

N4N Desk: डिजिटल ट्रांसक्शन के नाम पर सरकारी बैंक आपके अकाउंट से पैसे लेकर खुद का अकाउंट भर रही. संसद में जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक सरकारी बैंकों ने नोटबंदी के बाद से अब तक डिजिटल ट्रांजेक्‍शन के नाम पर आपकी जेब से 10 हजार करोड़ रुपये इकट्ठा किए हैं. ये करोड़ों हर ट्रांजेक्‍शन पर लगने वाले चार्ज और सेविंग अकाउंट में न्‍यूनतम बैलेंस न रखने वालों के जरिए वसूले गए हैं.

डिजिटल ट्रांजेक्‍शन पर पूछे गए एक सवाल का जवाब देते हुए सरकार ने बताया कि साल 2012 में एवरेज बैलेंस पर एसबीआई चार्ज वसूल रहा था, लेकिन 31 मार्च 2016 को इसे बंद कर दिया गया. इसके बाद SBI हर डिजिटल ट्रांजेक्‍शन पर अतिरिक्‍त चार्ज वसूलना शुरू कर दिया. 

बैंकों ने डिजिटल ट्रांसक्शन के नाम पर अभी तक कुल 10 हजार करोड़ बटोर लिए हैं. अनुमान लगाया जा रहा है कि प्राइवेट बैंकों का आकड़ा इससे काफी अधिक है. वित्त मंत्रालय की ओर से जानकारी दी गई है कि RBI ने बैंकों को उनके बोर्ड के मुताबिक विभिन्न सेवाओं पर चार्ज करने की अनुमति प्रदान कर रखी है.

Find Us on Facebook

Trending News