हाथ लगी निराशा : सिविल सर्जन के आदेश पर गए थे कार्रवाई करने, लेकिन बैरंग होकर लौटी स्वास्थ्यऔर पुलिस की टीम

हाथ लगी निराशा : सिविल सर्जन के आदेश पर गए थे कार्रवाई करने, लेकिन बैरंग होकर लौटी स्वास्थ्यऔर पुलिस की टीम

AURANGABAD :  फर्जी तरीके से चल रहे अल्ट्रासाउंड सेंटर को सील करने पहुंची स्वास्थ विभाग के कर्मियों और पुलिस को मुंह लटकाकर लौटना पड़ा, जब घर में मौजूद लोगों ने बताया कि यहां कोई सेंटर संचालित नहीं किया जा रहा है।

मामला जिले के रफीगंज से जुड़ा है। जहां सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के नजदीक शिर्डी साईं अल्ट्रासाउंड सील करने का आदेश सिविल सर्जन अकरम अली ने दिया था। स्वास्थ्य प्रबंधक लल्लन प्रसाद एवं रफीगंज थाना की पुलिस अपने दल बल के साथ चिन्हित स्थल पर पहुंचे।  स्वास्थ्य प्रबंधक जैसे ही उक्त अल्ट्रासाउंड सेंटर को सील करने पहुंची तो न वहाँ कोई अल्ट्रासाउंड की मशीन ही थी न कोई बोर्ड औऱ वहां पर मौजूद व्यक्ति ने कहा कि यह फैमिली डेरा है, यहां किसी तरह का कोई अल्ट्रासाउंड नहीं होता है। आखिरकार अस्पताल प्रबंधक एवं एसआई रविकांत सिंह पुलिस बल के साथ बैरंग वापस लौट गए।

सीएस ने खुद किया था निरीक्षण

वहीं स्वास्थ्य प्रबंधक ने बताया कि सिविल सर्जन ने खुद अल्ट्रासाउंड दुकान का निरीक्षण कर हमें सील करने का आदेश दिया था ,लेकिन जब वहां पहुंचे तो कुछ भी नहीं पाया । वहां पर मौजूद लोगों ने कहा कि यहां कोई  अल्ट्रासाउंड  नहीं है। 

इलाके में चल रहे हैं कई अवैध सेंटर

 ऐसे रफीगंज में एक दर्जन से भी अधिक अल्ट्रासाउंड की दुकानें चल रही है। दर्जनों छोटे-बड़े अस्पताल हर गली हर मोहल्ले में खुले हुए हैं। जहां आए दिन ऐसे अस्पतालों में लोगों की जाने जाती रहती है , लेकिन इन लोगों पर किसी तरह का कोई कार्रवाई नहीं किया जाता है। थानाध्यक्ष मुकेश कुमार भगत ने बताया कि स्वास्थ्य प्रबंधक ने फोन कर छापेमारी हेतू फोर्स का मांग किया था। उसके बाद कोइ जानकारी हमें नहीं मिली है।

Find Us on Facebook

Trending News