खुलासाः विजय सिन्हा को घेरने के चक्कर में खुद घिर गए महागठबंधन के नेता, शराब माफिया का JDU समर्थक होने का दावा, नेता प्रतिपक्ष ने जारी की तस्वीर

खुलासाः विजय सिन्हा को घेरने के चक्कर में खुद घिर गए महागठबंधन के नेता, शराब माफिया का JDU समर्थक होने का दावा, नेता प्रतिपक्ष ने जारी की तस्वीर

PATNA:  नेता प्रतिपक्ष को घेरने के चक्कर में सत्ताधारी महागठबंधन खुद घिर गया. दरअसल, शुक्रवार को डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव समेत कई विधायकों ने नेता प्रतिपक्ष विजय सिन्हा के रिश्तेदार के घर शराब की बड़ी खेप मिलने का आरोप लगाकर सनसनी फैला दी थी। सत्ताधारी गठबंधन ने शऱाबबंदी पर आक्रामक नेता प्रतिपक्ष को घेरने की चाल चली पर कुछ ही घंटे में यह रणनीति उल्टा पड़ गया. अब नेता प्रतिपक्ष ने नया खुलासा कर महागठबंधऩ को ही संकट में डाल दिया है। विजय सिन्हा ने खुलासा किया कि शराब उनके समधी के घर से नहीं बल्कि जेडीयू समर्थक के यहां से बरामद हुई गहै. शराब की बड़ी खेप बरामदगी मामले में जेडीयू सर्मथक को ही पुलिस ने गिरफ्तार किया है। उक्त शराब माफिया को सत्ताधारी जेडीयू का समर्थन था। 

विजय कुमार सिन्हा ने शराब बरामदगी मामले में अपने समधी का नाम घसीटे जाने एवं अपना नाम आक्षेपित किए जाने पर कहा है कि इस भ्रामक, असत्य एवं फेक न्यूज़ पर चर्चा एवं प्रतिक्रिया देने के विरुद्ध उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव, विधायक भाई बीरेंद्र एवं शकील अहमद खां पर माफी नहीं मांगने पर मानहानि का मुकदमा करेंगे। उन्होंने कहा कि सोमवार को बिहार विधानसभा के सत्र शुरू होने पर उनसे सदन में माफी मांगने के लिए कहेंगे। अध्यक्ष, बिहार विधानसभा से भी अपेक्षा हैं कि सदन में इस असत्य मामले को उठाने के लिए दोनों विधायकों से माफी मांगने के लिए निदेशित करें और विधानसभा की कार्यवाही से निराधार वक्तव्य विलोपित कराए। साथ ही उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव से भी वे माफी मांगने के लिए कहें।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि लखीसराय के घोंगसा में शराब मामले में गिरफ्तार मुनचुन कुमार जदयू का झंडा पोस्टर लगाकर बाइक पर घूमता हैं। मेरा उससे दूर-दूर तक कोई संबंध नहीं है। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि यदि परिवार या कोई सगा संबंधी भी कभी यह काम करे तो उसे सजा दो, जेल भेजो या फांसी चढ़ा दो। मैं किसी को बचाने या फंसाने का खेल नहीं खेलता हूँ. मेरा दोहरा चरित्र नहीं है की सजायाफ्ता को भी अपना नेता बनाकर गौरवान्वित महसूस करूं। विजय सिन्हा ने आगे कहा कि संसदीय कार्य मंत्री ने सदन में इस मामले की जांच की बात कही है। मेरा उनसे आग्रह है कि वह सोमवार को सदन पटल पर उक्त जांच रिपोर्ट को रखें। मीडिया कर्मियों को पुलिस एवं ग्रामीण द्वारा दर्ज प्राथमिकी की प्रति उपलब्ध कराते हुए कहा कि वे इस धमकी से डरने वाले नहीं है। वे नेता प्रतिपक्ष का दायित्व निर्भीक एवं निडर होकर निभाते रहेंगे।



Find Us on Facebook

Trending News