अस्पताल से डॉक्टर नदारद, नहीं मिला एंबुलेंस मरीज ने तोड़ा दम, आक्रोशित लोगों ने किया जमकर हंगामा

अस्पताल से डॉक्टर नदारद, नहीं मिला एंबुलेंस मरीज ने तोड़ा दम, आक्रोशित लोगों ने किया जमकर हंगामा

SHEKHPURA : सरकार प्रदेश में स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर बड़े-बड़े दावे करती है। लेकिन सूबे में स्वास्थ्य व्यवस्था का हाल-बेहाल है। हर जिले के प्रखंडो में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र तो खोल दिये गये हैं, लेकिन वहां न तो डॉक्टर उपलब्ध रहते है न ही स्वास्थ्यकर्मी। प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों की इस कुव्यवस्था के कारण मरीजों की मौत आम बात हो गई है। लोग हंगामे करते है, प्रशासन और सरकार की ओर से व्यवस्था सुधारने की बात की जाती है, लेकिन बात फिर आई-गई होकर रह जाती है। ताजा मामला शेखपुरा जिले की है। जहां अरियरी स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र गये एक सड़क हादसे में घायल मरीज की इलाज के अभाव में मौत हो गई। 

सदर अस्पताल ले जाने के लिए नहीं मिला एंबुलेंस

बताया जा रहा है कि सोमवार की अहले सुबह अरियरी प्रखंड के फरपर गांव निवासी किशुन चौहान का पुत्र रामदेव चौहान सड़क दुर्घटना में गंभीर रुप से घायल हो गया। आनन-फानन में स्थानीय लोग उसे इलाज के लिए अरियरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र ले गए। लेकिन वहां डॉक्टर के उपलब्ध नहीं होने के कारण उसे अस्पताल के कर्मचारियों ने सदर अस्पताल ले जाने को कहा। जब गंभीर रुप से घायल रामदेव को सदर अस्पताल ले जाने के लिए एंबुलेंस की मांग की गई तो बताया गया कि एंबुलेंस नहीं है। तकरबीन दो घंटे तक एंबुलेंस का इंतजार किया गया, लेकिन एंबुलेंस नहीं मिला, और घायल रामदेव की प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के दरवाजे पर ही मौत हो गई। 

इस घटना के बाद स्थानीय लोगों का गुस्सा फूट पड़ा। आक्रोशित लोगों ने प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में जमकर हंगामा किया। वहीं सड़क को जाम कर दिया। बाद में सूचना पर पहुंची पुलिस ने लोगों को समझा-बुझाकर मामले को शांत कराया। 

शेखपुरा से रोहित की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News