BIHAR NEWS : दहेजलोभियों ने बच्चों सहित की विवाहिता की हत्या, 5 दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली

BIHAR NEWS : दहेजलोभियों ने बच्चों सहित की विवाहिता की हत्या, 5 दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली

SUPAUL : बीते 4 जनवरी को हुई दिल दहलाने वाली घटना में 5 दिन बीत जाने के बाद भी जिले के त्रिवेणीगंज पुलिस के हाथ खाली है। मामले में अब तक पुलिस हत्यारे तक नहीं पहुंच पाई है। मामले को लेकर पुलिस पर कई सवालिया भी उठ रहे हैं। बता दें कि बीते 4 जनवरी को त्रिवेणीगंज थाना क्षेत्र के मजुरवा गांव स्थित वार्ड नंबर 4 में सनकी पति ने अपनी बहन के साथ मिलकर गर्भवती पत्नी एवं बच्चे को पलंग में बांध कर आग के हवाले कर दिया। जिसमें महिला व बच्चे जलकर खाक हो गए। जिसको लेकर गांव में सनसनी फैल गई। किसी ने घटना की जानकारी स्थानीय पुलिस को दी। जिसके बाद पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भेज दिया। 

घटना को लेकर लड़की के परिजनों ने घटना में 5 लोगों को अभियुक्त बनाया है। परिजनों ने थाने में दिए गए आवेदन में कहा कि मंगलवार को मेरे मोबाइल पर मेरे दमाद आशीष कुमार की फोन आया था कि घर में लड़ाई झगड़ा हुआ है। मैं अपने बेटे और अन्य रिश्तेदारों के साथ अपनी बेटी के ससुराल मजुरवा गांव पहुंचे। जहां आशीष के घर में सिर्फ धुआ ही धुआ दिखाई दिया। हम लोगों को लगा कि शायद घर में आग लगी है। लेकिन जैसे ही घर के अंदर गए तो अंदर की स्थिति देखकर दंग रह गए। बेटी रंजन कुमारी 25 वर्ष और नाती प्रभाव आशीष 3 वर्ष घर के अंदर पलंग पर जले हुए थे। 

करीब जाकर देखने पर पता चला की रंजन कुमारी और नाती प्रभाव आशीष के आँखों पर पट्टी और दोनों के हाथ पर बांधे गए थे। इसके बाद दामाद आशीष कुमार, उनकी बहन प्रियंका कुमारी और पिता अनंत यादव इनकी मां रेखा देवी और इनके दूसरी बहन अनियंका कुमारी सभी घर से भाग गए। आवेदन में कहा गया है की दामाद आशीष कुमार, मां बाप और दोनों बहनों के साथ मिलकर मेरी बेटी को मायके से दहेज के रूप में पांच लाख लाने के लिए जबरन दबाव बना रहे थे। बेटी द्वारा मना करने पर उनके साथ मारपीट बार-बार करते थे। इतनी बड़ी घटना को अंजाम देकर फरार होने वाले लोगों की पुलिस अभी तक गिरफ्तारी नहीं कर पाई है। 

सुपौल से संवाददाता पप्पू आलम की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News