बेसा के महासचिव डॉ.सुनील चौधरी ने बिहार का बढ़ाया मान, राष्ट्रीय समाज सेवा रत्न से हुए सम्मानित

बेसा के महासचिव डॉ.सुनील चौधरी ने बिहार का बढ़ाया मान, राष्ट्रीय समाज सेवा रत्न से हुए सम्मानित

PATNA : आपदा रोधी एवं पर्यावरण के अनुकूल समाज निर्माण को कृतसंकल्पित तथा विज्ञान एवं तकनीक के विभिन्न पहलुओं को समाज के अन्तिम पंक्ति के लोगों तक पहुंचाने को कटिबद्ध पथ निर्माण विभाग के कार्यपालक अभियंता, बिहार अभियन्त्रण सेवा संघ के महासचिव एवं इण्डियन इन्जीनियर्स फेडरेशन (पूर्व) के उपाध्यक्ष डॉ. सुनील कुमार चौधरी को "राष्ट्रीय समाज सेवा पुरस्कार " से नवाजा गया है। यह अवार्ड उन्हे कोरोना काल में उत्कृष्ट समाज सेवा एवं आपदा रोधी तकनीक को समाज के अंतिम पंक्ति के लोगो तक पहुँचाने के लिए ग्लोबल ह्यूमन राइट फाउंडेशन,नई दिल्ली द्वारा प्रदान किया गया है। डॉ चौधरी राष्ट्रीय समाज सेवा पुरस्कार प्राप्त करने वाले बिहार के पहले अभियंता  एवं बिहार अभियन्त्रण सेवा संघ के पहले महासचिव बन गये हैं। यह अवार्ड उनके द्वारा कोरोना काल मे कोरोना से पीड़ित अभियंता एवं समाज के अन्य वर्ग के लोगों के प्राण रक्षार्थ सार्थक मदद कर मानवता एवं सामाजिक सरोकार के प्रति अपनी कटिबद्धता की मिशाल पेश करने एवं आपदारोधी समाज निर्माण हेतु कारगर प्रयास के कारण दिया गया है।

आपदा रोधी समाज निर्माण आन्दोलन के पर्याय बन चुके बिहार अभियन्त्रण सेवा संघ के महासचिव डॉ सुनील कुमार चौधरी कोरोना से पीड़ित जरूरत मंदो को मुफ्त भोजन, दवा, ऑक्सीजन, हॉस्पीटल में बेड, औक्सीमीटर आदि उपलब्ध कराने का काम करते रहे है। प्लाज्मा ऑन कॉल के माध्यम से प्लाज्मा भी उपलब्ध कराते रहे है। वैक्सिनेशन के लिए लोगों को जागरूक करते रहे है। डॉ. चौधरी कोरोना रेजिलिएन्ट फोरम के माध्यम से समुचित मदद एवं डॉक्टर के मुफ्त सलाह से सैकड़ों लोगों की जान बचा चुके हैं। वे सरकारी एवं संगठन की जिम्मेवारी को निभाते हुए कोरोना पीड़ितों के मदद हेतु हमेशा तत्पर रहे हैं। 

आपदा रोधी एवं पर्यावरण के अनुकूल समाज निर्माण को कृतसंकल्पित बिहार अभियन्त्रण सेवा संघ के महासचिव डॉ सुनील कुमार चौधरी कोरोना संक्रमण एवं उससे बचाव के तरीकों तथा अन्तरराष्ट्रीय एवं राष्ट्रीय स्तर के तकनीकी एवं सामाजिक संगठनों से जुड़कर आपदा रोधी  तकनीक को समाज के अन्तिम पंक्ति के लोगों तक पहुंचाकर उन्हें जागरूक करने का काम करते रहे हैं। डॉ चौधरी ने भवन, सड़क एवं पुल के भूकंप रोधी क्षमता बढ़ाने, पर्यावरण के अनुकूल तकनीक को अपनाकर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को कम करने तथा आपदा प्रबंधन के क्षेत्र मे अनेकों अभिनव कार्य किये है जो समाज,राज्य एवं देश के विकास मे महत्वपूर्ण योगदान अदा कर सकता है। इस अवसर पर खुशी जाहिर करते हुए डॉ. चौधरी ने कहा कि यह जिम्मेवारी मुझे आपदारोधी समाज एवं आत्म निर्भर बिहार के निर्माण की दिशा में सार्थक प्रयास करने हेतु प्रेरित करेगा। डॉ चौधरी को 29 अन्तर्राष्ट्रीय एवं राष्ट्रीय पुरस्कार मिल चुका है एवं 212 शोध पत्र विभिन्न प्रतिष्ठित जर्नल एवं कान्फ्रेस में प्रकाशित हो चुका है ।

Find Us on Facebook

Trending News