शहर की सड़कों पर ट्रैफिक का हाल जानने खुद निकले डीएसपी, फिर नौ दो ग्यारह होने लगे लोग

 शहर की सड़कों पर ट्रैफिक का हाल जानने खुद निकले डीएसपी, फिर नौ दो ग्यारह होने लगे लोग

NALANDA: हमारे देश में जितनी मौत कोरोना से नहीं हुई उससे ज्यादा मौतें सड़क हादसे में हो जाती हैं. खुद केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी का कहना है कि भारत सड़क हादसों के मामले में दुनिया में नंबर एक पोजिशन पर है, हम अमेरिका और चीन से भी आगे हैं. सड़क हादसों को लेकर सरकार और जनता दोनों ही बराबर तौर पर जिम्मेवार हैं. एक तरफ जहां सरकार राजमार्गों और सड़कों का ठीक तरीके से रखरखाव नहीं करती, वहीं दूसरी तरफ जनता बमुश्किल ही कभी ट्रैफिक नियमों को मानती है. 

इसी बीच बिहार के नालंदा जिले में लोगों को जागरूक करने के लिए विशेष अभियान चलाया जा रहा है. 12 मार्च से इस ट्रैफिक विशेष अभियान की शुरूआत की गई है. पहले दिन स्वयं ट्रैफिक डीएसपी अरुण कुमार सिंह सड़कों पर चेकिंग के लिए उतरे. इस दौरान लोगों की शामत आ गई. यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले सभी लोगों से फाइन वसूला गया. ट्रैफिक डीएसपी की जद में आम लोग ही नहीं बल्कि पुलिस पदाधिकारी भी आ गए. उन्होनें वैसे पुलिस अधिकारियों को भी पकड़ा जो बिना हेलमेट पहले दोपहिया वाहन चला रहे थे.

इस मौके पर ट्रैफिक डीएसपी ने बताया कि यातायात पुलिस द्वारा विशेष वाहन चेकिंग अभियान चलाया जा रहा है. इसके तहत ट्रिपल लोडिंग, बिना हेलमेट और बिना सीट बेल्ट के वाहन चलाने वालों से फाइन वसूला जाएगा. यही नहीं सफेद लाइन के बाहर गाड़ियों की पार्किंग करने वाले वाहनों से भी फाइन वसूला गया. उन्होंने बताया कि इस अभियान की जानकारी पहले से ही लोगों को दी जा चुकी है. इसके बावजूद यातायात नियमों को तोड़ने वाले किसी भी शख्स को बख्शा नहीं जाएगा. अभियान का मुख्य उद्देश्य है कि शहरवासियों को जाम से निजात दिलाया जा सके.


Find Us on Facebook

Trending News