सेटिंग का खुलासाः DSP साहब की खुली पोल तो फिर से बना दिये गये 'इंस्पेक्टर', बिहार पुलिस मुख्यालय अब करेगा आगे की कार्रवाई

सेटिंग का खुलासाः DSP साहब की खुली पोल तो फिर से बना दिये गये 'इंस्पेक्टर', बिहार पुलिस मुख्यालय अब करेगा आगे की कार्रवाई

PATNA: बिहार के एक इंस्पेक्टर ने विभागीय कार्यवाही को छुपा लिया और डीएसपी में प्रोन्नति ले ली. छह साल बाद सरकार ने इंस्पेक्टर से डीएसपी रैंक में प्रोन्नति को रद्द कर दिया है। यानी डीएसपी साहब फिर से इंस्पेक्टर बन गये। वैशाली नगर थाने के तत्कालीन थानेदार शंकर कुमार झा को 2016 में ही डीएसपी बनाया गया था। वर्तमान में शंकर झा विशेष सशस्त्र पुलिस बल में तैनात थे। लेकिन सरकार ने उस डीएसपी को इंस्पेक्टर बनाकर वापस पुलिस मुख्यालय भेज दिया है। आगे की कार्रवाई अब पुलिस मुख्यालय करेगा।

आरोप छुपाकर ली प्रोन्नति

सरकार ने 30 नवंबर 2016 को इंस्पेक्टर डॉ.शंकर कुमार झा को पुलिस उपाधीक्षक में प्रोन्नति दी थी. वे वर्तमान में बिहार विशेष सशस्त्र पुलिस-12 सुपौल में पदस्थापित थे. वैशाली नगर थाने के तत्कालीन थानाध्यक्ष डॉ शंकर कुमार झा के खिलाफ वैशाली में ही विभागीय कार्यवाही लंबित थी। इस संबंध में डीजीपी ने 18 सितंबर 2018 को गृह विभाग को जानकारी दी थी. खुलासे के बाद मामले की समीक्षा की गई. समीक्षा में पाया गया कि डॉ शंकर कुमार झा के विरुद्ध वैशाली में विभागीय कार्यवाही संख्या 33/16 लंबित था. इसके बावजूद पुलिस मुख्यालय द्वारा पुलिस निरीक्षक कोटि से पुलिस उपाधीक्षक कोटि में प्रोन्नति के लिए महानिदेशक परिषद की अनुशंसा की गई.

पुलिस मुख्यालय हुए वापस 

गृह विभाग की समीक्षा में पाया गया की डॉ शंकर कुमार झा पुलिस उपाधीक्षक बिहार विशेष सशस्त्र पुलिस-12 सुपौल को पुलिस निरीक्षक कोटि से पुलिस उपाधीक्षक कोटि में प्रमोशन गलत था. लिहाजा उनके प्रोन्नति को रद्द किया गया है. साथ ही उनकी सेवा पुलिस मुख्यालय पटना को वापस कर दी गई है .अब पुलिस मुख्यालय के स्तर से विधि सम्मत निर्णय लिया जाएगा.

Find Us on Facebook

Trending News