गंगा नदी के तेज कटाव से मचा कोहराम, प्रभावित ग्रामीणों की शिकायत - बिना काम किए 56 करोड़ की राशि का हो गया बंदरबांट

गंगा नदी के तेज कटाव से मचा कोहराम, प्रभावित ग्रामीणों की शिकायत - बिना काम किए 56 करोड़ की राशि का हो गया बंदरबांट

KATIHAR : जिले के कुर्सेला प्रखंड दक्षिणी मुरादपुर पंचायत के खेरिया यादव टोला में गंगा नदी के तेज कटाव से कोहराम जारी है। हर दिन जमीन का एक बड़ा हिस्सा नदी में समाहित हो जा रहा है और इसको रोकने के लिए कोई प्रयास नहीं किया जा रहा है। वहीं नदी से कटाव से परेशान यहां के ग्रामीणों की चिंता बढ़ा दी है।  वहीं प्रशासन की तरफ से भी किसी प्रकार की सहायता नहीं मिल सकी है।

अपने खेत को कटते देख परेशान ग्रामीण कहते है कि अगर गंगा नदी का कटाव इसी तरह जारी रहा है तो बड़ी आबादी पर संकट आ सकता है, स्थानीय लोगों के मानें तो पिछले पांच सालों से इस इलाके में तेज कटाव है, सरकार के तरफ से इस कटाव को रोकने को लेकर कुछ राहत कार्य का ऐलान भी हुआ था मगर नतीजा अब तक सिफर है। लोगों का कहना है कि नदी के किनारे आधा दर्जन गांव के सैंकड़ों एकड़ जमीन नदी में समाहित हो चुके हैं। ग्रामीणों का कहना है कि कटाव की यही स्थिति बनी रही तो आनेवाले तीन से चार दिन में यह आबादी वाले इलाके तक पहुंच जाएगी। ग्रामीण कुंदन यादव का कहना है कि यह स्थिति तीन से चार पंचायतों में हैं, जहां 50 हजार के आसपास की आबादी प्रभावित है।

56 करोड़ की योजना का बंदरबांट

गांव के लोगों ने बताया कि पिछले साल 56 करोड़ की राशि कटाव रोकने के लिए मंजूर की गई थी, लेकिन जमीनस्तर पर इसका कोई काम नजर नहीं आया। 56 करोड़ की राशि से कटाव रोकने के लिए 56 बोरे भी यहां नहीं लगाए गए। सारी राशि का बंदरबांट कर लिया गया। इस बार भी कटाव जारी है, लेकिन प्रशासन की तरफ से कोई अधिकारी यहां देखने भी नहीं पहुंचा है। 

प्रशासन की तैयारी

 उधर लगातार नदी के तेज कटाव  से पहले ही खेतिहर जमीन के बड़ा हिस्सा गवा चुके लोग अब गांव पर संकट के खतरे से परेशान होने के सवाल पर जिला पदाधिकारी कहते हैं की जिला प्रशासन को भी इस तेज कटाव के बारे में जानकारी मिला है और बहुत जल्द इस पर बंबू पाइलिंग का काम करवाते हुए कटाव को रोकने की कोशिश किया जाएगा, इस बारे में बाढ़ नियंत्रण विभाग के अधिकारियों को दिशा निर्देश दिया गया है अगर फिर भी बात नहीं बनी तो और जो भी संभव होगा वह कार्य भी करवाया जाएगा, जिलाधिकारी उदयन मिश्रा ने कहा कि किसी भी हाल में लोगों को पैनिक होने की जरूरत नहीं है।

Find Us on Facebook

Trending News