दूसरे चरण के चुनाव में जदयू और महागठबंधन की प्रतिष्ठा दांव पर, 18 अप्रैल को होंगे मतदान

दूसरे चरण के चुनाव में जदयू और महागठबंधन की प्रतिष्ठा दांव पर, 18 अप्रैल को होंगे मतदान

पटना- बिहार में लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में भागलपुर, बांका और सीमांचल की तीन सीटों (पूर्णिया, कटिहार और किशनगंज) पर 18 अप्रैल को मतदान होना है. इसको लेकर एनडीए और महागठबंधन दोनों ही अपना दम-खम दिखने में जुटी गई हैं. इन पांचों सीटों पर एनडीए के घटक जदयू की प्रतिष्ठा दांव पर है. ये सभी सीटें एनडीए की ओर से जदयू के खाते में है. वहीं दूसरे चरण में होने वाले इन पांच सीटों पर महागठबंधन से राजद के 2 और कांग्रेस के 3 प्रत्याशियों के भविष्य का फैसला होना है.

दूसरे चरण के चुनाव में महागठबंधन के प्रत्याशियों के खिलाफ जदयू उम्मीदवार ही मैदान में हैं. पिछले चुनाव में भाजपा के 30 उम्मीदवारों में से 22 ने जीत दर्ज की थी. जिन आठ सीटों पर भाजपा चुनाव हार गई थी, उनमें ये पांच सीटें शामिल हैं. इन सीटों पर राजग की ओर से इस बार भाजपा की जगह जदयू चुनाव लड़ रहा है. 2014 के लोकसभा चुनाव की बात करें तो सीमांचल की इन तीन सीटों के अलावा भागलपुर और बांका में भी भाजपा कामयाबी नहीं मिली थी. यह चुनाव जदयू के लिए भी अहम है, क्योंकि भागलपुर और बांका की सीटें पार्टी ने अपने हिस्से में ली है. इस कारण भाजपा के नेता शाहनवाज हुसैन और पुतुल देवी को बेटिकट होना पड़ा है. पुतुल देवी तो बगावत कर निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में बांका के चुनावी मैदान में कूद पड़ी हैं. तो वहीं भागलपुर में राजद के बूलो मंडल और जदयू के अजय कुमार मंडल के बीच आमने-सामने की लड़ाई है. 

इन सभी 5 सीटों पर कांग्रेस के 3, जदयू के 5 और राजद के 2 प्रत्याशीयों का किस्मत का फैसला 18 अप्रैल को होने वाले दूसरे चरण के मतदान में हो जायेगा.

Find Us on Facebook

Trending News