राज्य में दूर होगी शिक्षकों के प्रशिक्षण की समस्या, टीचर ट्रेनिंग कॉलेज के 356 व्याख्याताओं को शिक्षा मंत्री ने दिया नियुक्ति पत्र

राज्य में दूर होगी शिक्षकों के प्रशिक्षण की समस्या, टीचर ट्रेनिंग कॉलेज के 356 व्याख्याताओं को शिक्षा मंत्री ने दिया नियुक्ति पत्र

PATNA : बिहार सरकार के शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी के द्वारा आज राज्य के विभिन्न शिक्षक प्रशिक्षण महाविद्यालय में बिहार लोक सेवा आयोग की अनुशंसा के बाद नवनियुक्त 356 व्याख्याताओं को नियुक्ति पत्र वितरित किया गया है। इन मौके पर फाउंडेशन कोर्स के 53, समावेशी शिक्षा के 32, शैक्षिक प्रौद्योगिकी के 18, योजना एवं शोध के 31, हिंदी 20, अंग्रेजी 17, उर्दू 11, संस्कृत 6, गणित 11, भौतिकी 23, रसायन शास्त्र 22, वनस्पति विज्ञान 19, प्राणी विज्ञान 22 और सामाजिक विज्ञान के 61 व्य्वाख्याय्ताओं को नियुक्ति पत्र वितरित किए गए।

बताते चलें कि राज्य में चार प्रकार के शिक्षक प्रशिक्षण संस्थान हैं। जिसमें 6 अध्यापक शिक्षण महाविद्यालय, 33 जिला शिक्षक एवं प्रशिक्षण संस्थान, 23 प्राथमिक शिक्षक शिक्षा महाविद्यालय और चार प्रखंड शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान है। इन संस्थानों में कुल 993 पद स्वीकृत हैं। जिसमें पहले से 456 व्याख्याता कार्यरत हैं। 356 व्याख्याताओं के पद स्थापना और नियुक्ति के बाद अब केवल 181 रिक्तियां रह गई है। जिसे शीघ्र भरने का प्रयास विभाग द्वारा किया जा रहा है।

शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने व्य्वाख्याताओं को संबोधित करते हुए कहा कि शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार के दो प्रमुख उपाय हैं प्रशिक्षण एवं निरीक्षण। इस दृष्टिकोण से नवनियुक्त व्याख्याता की राज्य की शिक्षा व्यवस्था की गुणवत्ता सुधार में महत्वपूर्ण भूमिका है। उन्होंने कहा कि विभाग नवनियुक्त व्याख्याताओं की सभी सुविधाओं का ख्याल रखेगी। वहीं उन्होंने कहा की नवनियुक्त व्याख्याता अपना शत प्रतिशत योगदान निर्धारित भूमिका को निभाने में दें। उन्होंने यह भी कहा कि विभाग का चेहरा दूरस्थ प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक द्वारा किए गए शिक्षा दान में निहित है। उसको के द्वारा गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दिया जाए, यह उनके प्रशिक्षण पर बहुत हद तक निर्भर करता है। जिसकी भूमिका शिक्षक प्रशिक्षण संस्थान निभाते हैं। इसलिए इन व्याख्याताओं की अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका है। वहीं व्याख्याताओं को संबोधित करते हुए अपर मुख्य सचिव दीपक कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर नई शिक्षा नीति के लागू होने के बाद विद्यालय में पढ़ाए जाने वाले पाठ्यक्रम और पढ़ाई तथा मूल्यांकन के तरीकों में काफी बदलाव आए हैं। इन नए पाठ्यक्रम और नए तरीकों में प्रशिक्षण की ज़िम्मेवारी प्रशिक्षण संस्थान की है। यह उम्मीद है कि नवनियुक्त व्याख्याता अपने योगदान को इस क्षेत्र में प्रदर्शित करेंगे।

Find Us on Facebook

Trending News