शर्मनाक : आरडीडी की फटकार के बौखलाए प्रधानाध्यापक ने महिला शिक्षिका से की बदसलूकी

शर्मनाक : आरडीडी की फटकार के बौखलाए प्रधानाध्यापक ने महिला शिक्षिका से की बदसलूकी

SITAMRHI : जिले में शिक्षा उप निदेशक की फटकार से बौखलाए विद्यालय के प्रधानाध्यापक द्वारा महिला शिक्षिका के साथ बदसलूकी करने का मामला सामने आया है. बताते चलें कि विगत डेढ़ वर्षो से सीतामढ़ी की प्रखंड शिक्षिका रश्मि रूपम अपने वेतन की गुहार लगाते हुए विभाग से लेकर सभी अधिकारियों के दफ्तर का चक्कर लगा रही थी. इसी क्रम में पीड़ित शिक्षिका की ओर से राष्ट्रीय महिला आयोग से न्याय की गुहार लगाई गई थी. उनके आवेदन की प्रतिलिपि प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री, मानवाधिकार आयोग समेत शिक्षा विभाग के त्तिरहुत प्रमंडल के शिक्षा उप निदेशक को भी दिया गया था. 

जिसपर त्वरित करवाई करते हुए शिक्षा उप निदेशक डॉ संगीता सिन्हा की ओर से मामले के निष्पादन के लिए रुन्नीसैदपुर बीईओ इन्द्रशेखर, मध्य विद्यालय थुम्मा द्वितीय के प्रभारी प्रधानाध्यापक अजय कुमार और पीड़ित शिक्षिका रश्मि रूपम को अपने कार्यालय बुलाया गया था. यहाँ आरडीडी की सुनवाई में शिक्षिका का वेतन अकारण बंद किये जाने पर प्रधानाध्यापक और बीईओ रुन्नीसैदपुर को फटकार लगाई गई थी. वही आज शिक्षक दिवस के अवसर पर प्रधान सचिव शिक्षा विभाग के निर्देश का पालन करते हुए शिक्षिका रश्मि रूपम प्रतिदिन की भांति ससमय विद्यालय पहुँची थी. शिक्षकों के हड़ताल पर होने को लेकर विद्यालय में कोई शिक्षक शिक्षिका नही पहुँचे थे. विद्यालय के प्रभारी प्रधानाध्यापक अजय कुमार द्वारा शिक्षिका के पहुँचने के बाद विद्यालय में 5-10 की संख्या में बाहरी लोगों को बुला जमघट लगाया गया था. 

प्रधानाध्यापक ने इस दौरान शिक्षिका से अपमानजनक शब्दो का इस्तेमाल करते हुए स्कूल से भागने की धमकी देने लगे. इसकी सूचना शिक्षिका ने प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी रुन्नीसैदपुर को दूरभाष पर दिया. लेकिन उन्होंने  बाहर होने की बात कह फोन रख दिया. इसके बाद शिक्षिका ने जिला शिक्षा पदाधिकारी को भी घटना से अवगत कराने का प्रयास किया, लेकिन उनके द्वारा फ़ोन नही उठाया गया. जिसके बाद शिक्षिका ने दूरभाष पर इस बात की जानकारी जिलाधिकारी महोदया को दी. विद्यालय में कार्यरत किसी शिक्षक के उपस्थित न होने पर विद्यालय के प्रधान द्वारा इस तरह के आचरण से शिक्षिका खुद को बहुत असुरक्षित महसूस कर रही थी. जिस कारण वे अपनी सुरक्षा के मद्देनजर विद्यालय छोड़ने का एक आवेदन जिलाधिकारी को व्हाट्सअप पर लिखकर  विद्यालय से निकल गई. 

इधर वर्तमान में शिक्षिका विगत तीन वर्षों से विभागीय उदासीनता के कारण दो बार यक्ष्मा रोग से पीड़ित हो चुकी है. जिसका ईलाज अभी भी जारी है. पीड़ित शिक्षिका ने बताया की वरीय अधिकारियों से किये गए शिकायत वापस करने को लेकर प्रधानाध्यापक द्वारा अपने सहयोगियों के साथ इस तरह से दुर्व्यवहार की घटना की जा रही है. वही पूरे मामले पर सीतामढ़ी डीएम अभिलाषा कुमारी शर्मा ने उचित कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है. 

सीतामढ़ी से आदित्यानंद आर्य की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News