कोल ब्लॉक आवंटन मामले में प्रवर्तन निदेशालय की बड़ी कार्रवाई, झारखंड इस्पात को किया अटैच

कोल ब्लॉक आवंटन मामले में प्रवर्तन निदेशालय की बड़ी कार्रवाई, झारखंड इस्पात को किया अटैच

RAMGADH : राज्य के प्रसिद्ध आयरन ओर फैक्ट्री झारखंड इस्पात प्राइवेट लिमिटेड को प्रवर्तन निदेशालय ने अपने अधीन कर लिया है.   रामगढ़ थाना क्षेत्र के हेसला में स्थित झारखंड इस्पात प्राइवेट लिमिटेड को अटैच करते हुए फैक्ट्री गेट के बाहर सोमवार को बोर्ड लगा दिया गया है. निदेशालय के अधिकारी रामगढ़ थाना पुलिस के साथ सोमवार को फैक्ट्री पहुंचे थे. प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारियों ने बताया कि कंपनी पर 2014 में मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया गया है. 

सीबीआई जांच के बाद फैक्ट्री प्रबंधन पर प्राथमिकी दर्ज की गई थी. जिसके बाद फैक्ट्री प्रबंधक आरसी रुंगटा को जेल भी जाना पड़ा है. अधिकारियों ने बताया कि प्रवर्तन निदेशालय की देखरेख में झारखंड इस्पात चलेगा. बताया गया कि प्रवर्तन निदेशालय ने फैक्ट्री के मशीन को पहले ही अटैच कर लिया था. अब 19 अगस्त को फैक्ट्री की 25.54 एकड़ जमीन को अटैच कर दिया गया है. इस प्रकार पूरी फैक्ट्री प्रवर्तन निदेशालय के अधीन हो गई है. प्रवर्तन निदेशालय के अनुसंधान अधिकारी और अन्य अधिकारी ने सोमवार को फैक्ट्री पहुंचकर यह कार्रवाई किया है. 

रामगढ़ थाना पुलिस सुरक्षा के ख्याल से वहां मौजूद थी. यह कार्रवाई प्रवर्तन निदेशालय रांची की टीम ने किया है. बताया कि मनमोहन सिंह सरकार के समय कोल ब्लॉक आवंटन मे गड़बड़ी की गई थी. जिसके बाद आरसी रूंगटा को एक कोल ब्लॉक मिला था. वर्ष 2014 में केंद्र सरकार ने इसकी सीबीआई जांच कराई. 

इसके बाद सीबीआई ने पूरे मामले की छानबीन कर प्राथमिकी दर्ज कराई. फैक्ट्री प्रबंधक आरसी रूंगटा को 3 साल की सजा सुनाई गई थी. जिसके बाद से प्रवर्तन निदेशालय कार्रवाई कर रही है. झारखंड के एक बड़े उद्योग पर प्रवर्तन निदेशालय की इस कार्रवाई से व्यवसायियों और उद्योगपतियों में खलबली मच गई है. 

रामगढ़ से अनुज की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News