इंजीनियर डे के मौके पर बोले सरकार के मंत्री- सीएम नीतीश के इंजीनियरिंग सोच से बदला बिहार

इंजीनियर डे के मौके पर बोले सरकार के मंत्री- सीएम नीतीश के इंजीनियरिंग सोच से बदला बिहार

PATNA: इंजीनियर डे के खास मौके पर जदयू प्रदेश कार्यालय में प्रेस कॉफ्रेंस का आयोजन किया गया । पटना इंजीनियरिंग कालेज से नीतीश कुमार पास आउट है। बिहार को लीड कर रहे है। बिहार सरकार के मंत्री अशोक चौधरी ने कहा कि बिहार के निर्माण में इंजीनियरिंग  की भूमिका अहम रही है। जिन्होंने पन्द्रह बर्षों से पूरा प्रयास किया। गौरव की बात है। यह संयोग है कि प्रदेश का सौभाग्य है कि मुख्यमंत्री भी इंजीनियरिंग  है। नए बिहार के निर्माण में, मूलभूत संरचना को पूरा करने में ईंजीनियर की अहम भूमिका रही। 

बिहार सरकार के मंत्री संजय झा ने कहा कि 15 साल में बिहार निर्माण की भूमिका या यूं कहे कि बिल्ट करने में जो भूमिका अदा की है वह सराहनीय है। यही कारण है कि आज जद यू के प्रदेश कार्यालयम में किसी राजनीतिक मुद्दे से अलग हटकर इंजीनियर डे के मौके पर बात की जा रही है। बड़ी बात का जिक्र करते हुए संजय झा ने बताया कि इंजीनियर बनना बड़ी बात थी। बिहार के निर्माण में खासकर सड़क निर्माण में अहम भूमिका रही। पटना म्यूजियम का जिक्र करते हुए इसे पटना ही नहीं विश्व के लिए गौरव की बात कही। देश में पहली बार इस टेक्नोलॉजी का इस्तमाल किया गया। 

नई तकनीक के साथ हर क्षेत्र में इंजीनियर के सहयोग से विकास किया गया। पीएम एवं सीएम की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि एम्स का निर्माण किया गया। प्रेस कांफ्रेस करते हुए मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार खुद भी इंजीनियर हैं। टेक्नोलॉजी और इंजीनियरिंग का पूर्णतः उपयोग नीतीश जी ने बिहार कर विकास के लिए किया है। हरेक ज़िले में इंजीनियरिंग कॉलेज और पॉलीटेक्निक कॉलेज खुला। हरेक ज़िले में महिला ITI खुले हैं और खुल रहे हैं। आज बिहार को मिला है दूसरा AIIMS मिला है, ये नीतीश कुमार जी के जिद्द की वजह से सम्भव हुआ। 

बिहार में 97 प्रतिशत अच्छी सड़कें हैं। सारा इंफ्रास्ट्रक्चर जनता के सामने है कोई झूठा फैक्ट नहीं है। पटना में बना म्यूजियम वर्ल्ड लेवल का म्यूजियम है। वर्ल्ड में किसी भी म्यूजियम से 20 ही होगा, 19 नहीं होगा। आज कई अर्टिफेक्टस वहां रखे गए हैं।  आईआईएम, आईआईटी बिहार में होगा, यह किसी ने सपने में भी नहीं सोचा था लेकिन हमने वह करके दिखाया है। आज बिहार को दूसरा एम्स भी मिला है। पिछले सरकार में इंडस्ट्रीयल ग्रोथ रेट जीरो था। जिसे मुख्यमंत्री ने अपनी इंजीनियरिग से बदल दिया। सड़क से लेकर हर घर बिजली पहुचाने का सपना साकार हुआ। बिजली सड़क पानी को लेकर राजनीति खत्म हो गई। विपक्ष का मुद्दा ही खत्म हो गया। 

Find Us on Facebook

Trending News