कुर्सी मिलने के बाद भी जिम्मेदारी नहीं संभालना चाहते हैं पंचायत चुनाव में चुने गए जनप्रतिनिधि, कारण जानकर यकीन नहीं कर पाएंगे

कुर्सी मिलने के बाद भी जिम्मेदारी नहीं संभालना चाहते हैं पंचायत चुनाव में चुने गए जनप्रतिनिधि, कारण जानकर यकीन नहीं कर पाएंगे

HAJIPUR : पंचायत चुनाव में किसी तरह जीत हासिल कर कुर्सी मिली, जनप्रतिनिधि पद एवं गोपनियता की शपथ भी ले चुके हैं, लेकिन इसके बाद भी चुने गए माननीयों ने अभी तक अपनी जिम्मेदारी नहीं संभाली है या यूं कहें कि जिम्मेदारी संभालने से परहेज कर रहे हैं. कुछ के चेंबर अब तक बंद हैं, वहीं कुछ खुले भी हैं तो खाली कुर्सी उनके स्वागत के लिए पलक-पांवरे बिछाए इंतजार कर रही है।

चुनाव की अधिसूचना जारी होने के साथ ही बंद हुआ प्रमुख-उपप्रमुख का चेंबर अब तक बंद पड़ा है। जबकि बीते 3 जनवरी को प्रमुख-उपप्रमुख का चुनाव संपन्न हो चुका है। प्रखंड प्रमुख और उप प्रमुख की कुर्सी बदल चुकी है। लेकिन ज्यादातर चुने गए जनप्रतिनिधि जिम्मेदारी नहीं संभालना चाहते हैं। यह स्थिति सिर्फ प्रमुख और उप प्रमुख तक ही नहीं पंचायत भवन में मुखिया, ग्राम कचहरियों में सरपंच के चेंबर और कुर्सी खाली पड़ी है। अब तक किसी भी पंचायत में मुखिया, सरपंच के कार्यालय का उद्घाटन नहीं हुआ है।

मुहूर्त का है इंतजार

दरअसल, चुने गए जनप्रतिनिधियों द्वारा जिम्मेदारी नहीं संभालने का मुख्य कारण खरमास का महीना बताया जा रहा है। कोई भी माननीय खरमास में कुर्सी संभालने को तैयार नहीं दिख रहे।शुभ मुहूर्त के कारण कुर्सी पर आंच आए या कोई विघ्न आए भला कौन चाहेगा। सभी 15 जनवरी तक इंतजार कर रहे हैं। मकर संक्रांति के बाद कार्यालय की ओपनिंग का सिलसिला शुरू हो जाएगा।





Find Us on Facebook

Trending News