गया में किसान महंगे दामों पर खाद खरीदने को मजबूर, दुकानदारों पर कालाबाजारी करने का लगाया आरोप

गया में किसान महंगे दामों पर खाद खरीदने को मजबूर, दुकानदारों पर कालाबाजारी करने का लगाया आरोप

GAYA : किसानों को रबी फसलों की उन्नत पैदावार के लिए उर्वरक की इस समय नितांत आवश्यकता है। हर हाल में किसान खेतों में यूरिया के छिड़काव के लिए बेचैन है ताकि फसलों की पैदावार ठीक हो। सरकार एक तरफ से नए नियम के कानून के तहत किसानों को हर सुविधा मुहैया कराने के लिए तैयार है, साथ ही कई प्रकार की योजनाएं भी किसानों के हित में चला रही है। ताकि किसानों को कोई परेशानी न हो। लेकिन इमामगंज प्रखंड क्षेत्र में किसानों को इन दिनों खाद के लिए काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। 

सोमवार इमामगंज बाजार स्थित मे० कृषि कल्याण केंद्र में एवं अन्य बीज भंडारों पर  किसानों यूरिया खाद लेने के लिए लंबी लंबी लाइनों में लगकर लेना पड़ा। लेकिन यहां पर जरूरतमंद कुछ किसानों को यूरिया खाद मिला भी तो ओने पौने दामों में। इसकी वजह से किसानों में नाराजगी देखी जा रही थी। इस संबंध मल्हारी पंचायत के किसान भगवान प्रसाद, चंद्र मोहन भारती, पथरा गांव के अनुग्रह प्रसाद, हलोखोरी ठाकुर सहित अन्य दर्जनों किसानों ने बताया कि हम लोगों को काफी भागदौड़ करने के बाद यूरिया खाद नसीब हो रहा है। लंबी लंबी लाइन में लगने के बाद यूरिया खाद महंगे दामों में मिलता है। जहां यूरिया खाद का दाम 266 रुपया होनी चाहिए वहां पर 350 रुपए की वसूली की जा रही है। हालाँकि मजबूरन में हम लोगों को खाद खरीदना पड़ रहा है। 

किसानों ने बताया कि कभी कभार खाद की कमी बताकर दुकानदार किसानों को लौटा रहे है। वहीं किसानों ने आरोप लगाते हुए बताया कि इमामगंज बाजार के संचालक भारी पैमाने पर खाद की कालाबाजारी कर रहे है। जिसके चलते जरूरतमंद किसानों को खाद की आपूर्ति नहीं हो पा रही है। खाद नहीं मिलने से नाराज किसानों ने बताया कि संचालक ही इस समस्या के जिम्मेवार नहीं है। बल्कि संबंधित पदाधिकारी भी उनके साथ मिले हुए है जिनके सरपरस्ती में खाद की कालाबाजारी हो रही है।

गया से मनोज कुमार की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News