राजद और भाजपा में होगी सीधी टक्कर, कौन होगा फतुहा विधानसभा का सिरमौर

राजद और भाजपा में होगी सीधी टक्कर, कौन होगा फतुहा विधानसभा का सिरमौर

पटना सिटी.. मुख्यमंत्री आवास यानी 1 अणे मार्ग से 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है फतुहा। बिहार में विधानसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है। बिहार की जितनी भी तमाम राजनीतिक पार्टियां हैं, उन सभी ने अपने-अपने स्तर से चुनावी समीकरण साधने में लग गए हैं। उम्मीदवारों को सिंबल भी प्रदान कर दिया गया है। जिसके बाद सभी राजनीतिक खिलाड़ी मैदान में कूद पड़े हैं। इस बार फतुहा विधानसभा में सीधी टक्कर राजद और भाजपा में होगी। यानी राजद से सिटिंग विधायक डॉक्टर रामानंद यादव और भाजपा से ई. सतेंद्र सिंह होंगे। इस सीट से रामानंद यादव लगातार विजय हो रहे हैं, जबकि ई. सतेंद्र सिंह पहले इसी सीट पर लोजपा से लड़ा करते थे, लेकिन अब स्थिति बदल गई और इस बार सतेंद्र सिंह भाजपा के टिकट पर मैदान में हैं। 


स्थानीय लोगोें की मांग

फतुहा के लोगांे की एक बहुत ही पुरानी मांग रही है कि फतुहा को अनुमंडल बनाया जाए। साथ ही फतुहा की आबादी को देखते हुए यहां पर एक बड़ा अस्पताल की भी मांग रही है। फतुहा चुकी एक औद्योगिक बहुल क्षेत्र माना जाता है। फतुहा से सटे जितने भी क्षेत्र आते हैं, वहां के लोगो की कई समस्याएं भी है। कई ऐसी जगह है, जहां आजादी के बाद भी सड़कांे का निर्माण नही हुआ है। क्षेत्र में अधिकतर विद्यालय ऐसा है जो जर्जर स्थित में है। सबलपुर के फतेहजंगपुर में एक ऐसा स्कूल है जो दो कमरों में चलता है, जहां सैंकड़ो बच्चे पढ़ते है और साल में करीब यह स्कूल 4 महीने जब बारिश का पानी आता है तब यह स्कूल पानी मे डूबा रहता है जिससे बच्चों की पढ़ाई बाधित रहती है। हालाकि इस क्षेत्र के लोगों का कहना है कि जब चुनाव का समय आता है तब विधायक जी जनता के बीच मे आते हैं, चुनाव जीत जाते हंै तो बो नजर भी नही आते है। 


हालांकि इधर हाल के दिनों की बात करे तो कई करोड़ की लागत से विभिन्न कार्यो को शिलान्यास भी फतुहा बिधानसभा के क्षेत्रों में विधायक जी ने  की है, लेकिन इस सब के बीच मंे सवाल यह उठता है कि जब चुनाव जीत कर विधायक जी जाते है तब अगले 4 साल तक विकास का काम क्यांे नही होता है। सारे विकास सिर्फ चुनावी साल में नजर  क्यांे आते है। हालांकि फतुहा बिधानसभा के जातीय समीकरण को देखा जाए तो इसमंे राजद का पलड़ा बहुत भाड़ी है। मूल रूप से यह क्षेत्र यादव बहुल क्षेत्र माना जाता है, जिसका फायदा राजद उम्मीदवार को होता है। 

आइए जानते है फतुहा बिधानसभा क्षेत्र के बारे में

फतुहा बिधानसभा में कुल मतदाता 267000 हैं जिसमे यादव वोटरो की संख्या 90000 के करीब है जबकि राजपूत वोटरो की संख्या 55000 है। फतुहा विधानसभा को 33 सेक्टरों  शहरी और ग्रामीण क्षेत्रांे को मिलाकर बांटा गया है। इस विधानसभा में कुल 209 भवन हैं जिसमे कुल 405 बूथ मौजूद है जिसमे मूल मतदान केंद्रों की संख्या  281 है जिसमे सहायक मतदान केंद्रों की संख्या 124 है। 


Find Us on Facebook

Trending News