शिक्षिका के घर पर गोलीबारी, गांव के एक निर्दोश युवक को लगी गोली, पीड़िता ने पुलिस पर लगाया गंभीर आरोप

शिक्षिका के घर पर गोलीबारी, गांव के एक निर्दोश युवक को लगी गोली, पीड़िता ने पुलिस पर लगाया गंभीर आरोप

भागलपुर. सुलतानगंज थाना क्षेत्र में गोलीबारी में गांव के एक युवक कारु यादव को गोली लगने से वह घायल हो गया. वहीं इस मामले में गांव के राजीव कुमार उर्फ दुखन यादव ने बताया कि गांव के दबंग शंकर यादव, सन्टु यादव, मन्टु यादव, फाटक यादव, चारों के पिता स्व देवो यादव एंव सोनु कुमार पिता पप्पू यादव व धारी यादव पिता शंकर यादव हमे एंव हमारे चचेरा भतिजा सिन्टु कुमार पिता कमलेश्वरी यादव को खुलेआम धमकी देता हैं कि तुम दोनों पुलिस का मुखबिरी हो तूम्हारे कहने पर बार बार पुलिस हमारे दरबाजे पर आता हैं. तुम दौनों को जिन्दा नहीं छोडेंगे. कही पर भी तुम दोनों की हत्या कर देने कि धमकी देते रहते हैं.

उन्होंने कहा कि उपरोक्त सभी व्यक्ति पर हत्या एवं रंगदारी का मामला थाने मे दर्ज हैं. इस सभी घटना कि जानकारी डीआईजी, एस एसपी, डीएसपी, थानाध्यक्ष को लिखित आवेदन देने पर कोई कार्रवाई नहीं होने पर गांव के दबंग शंकर यादव, सन्टु यादव, मन्टु यादव, फाटक यादव, सोनु कुमार, धारी यादव ने देररात गोलीबारी शुरू कर दी, तभी गांव के कारु यादव को गोली लग गयी, जिससे वह घायल हो गया. 

उन्होंने बताया कि घटना की सुचना स्थानीय पुलिस प्रशासन को देने पर भी पुलिस प्रशासन द्वारा बार बार हमारे घर कि तलाशी लेते रहते हैं, जबकि गांव के दबंग एंव गोलीबारी की घटना को अंजाम देनेवाले के घर में कोई तलाशी नहीं ली जाती हैं. जबकि हमारी पत्नी सन्नो रानी श्यामपुर में शिक्षिका हैं ओर हमारे दादा परमेश्वर यादव स्वतंत्रता सेनानी भी रह चुके हैं, लेकिन पुलिस प्रशासन द्वारा कोई कार्रवाई नहीं होने से गांव के दबंग बार बार हमारे घर पर गोलीबारी करते रहती हैं, जिससे हमारे परिवार डर डर कर अपना जीवन यापन कर रहे हैं.

वहीं पिडित शिक्षिका सन्नो रानी ने बताया कि बार-बार हमारे घर पर गोलीबारी करते रहते हैं. पुलिस हमारे घर की बार बार तलाशी लेती रहती है, लेकिन कुछ भी नहीं मिलता है. गांव के दबंग और0 गोलीबारी करनेवाले के घर में तलाशी करेगी तो सभी बडे़ हथियार का खजाना मिल सकता हैं और हमारे पति राजीव कुमार उर्फ दुखन यादव को पुलिस की मुखबिरी समझ कर बार बार धमकाते रहता है. पुलिस प्रशासन को गलत अफवाह देकर हमारे घर की पुलिस प्रशासन द्वारा बार बार तलाशी के लिए मजबुर करते रहते हैं. अगर पुलिस प्रशासन द्वारा आवेदन पर कार्रवाई की गई होती, तो आज गांव के निर्दोश युवक को गोली नहीं लगती. वहीं पुलिस ने घायल युवक को इलाज के लिए रेफरल अस्पताल भेज कर घटना की छानबीन करते हुए अपराधियों की धड़पड़ तेज कर दी है.


Find Us on Facebook

Trending News