मोदी सरकार की मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति बनीं महामंडलेश्वर, पहली बार किसी मिनिस्टर को मिली उपाधि

मोदी सरकार की मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति बनीं महामंडलेश्वर,  पहली बार किसी मिनिस्टर को मिली उपाधि

PRAYAGRAJ : प्रयागराज कुंभ मेले में सोमवार को केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति को निरंजनी अखाड़े की महामंडलेश्वर की पदवी दी गई। यह पहला मौका है जब किसी केंद्रीय मंत्री को अखाड़े की ओर से महामंडलेश्वर की पदवी दी गई है। धार्मिक रीति रिवाज और वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच उन्हे ये पदवी दी गई। इस दौरान अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेन्द्र गिरी व निरंजन ज्योति के गुरू व निरंजनी अखाड़े के महामंडलेश्वर परमानंद गिरी की समेत भारी तादात में संत मौजूद रहे। बता दें कि कुम्भ मेले में साधु संतों को महामंडलेश्वर, महंत, श्री महंत बनाये जाने की परम्परा रही है। इसके साथ ही अखाड़े कुम्भ में नागा साधु भी बनाते हैं।

संतों की उपस्थिति में उपाधि

सोमवार को कुम्भ मेला क्षेत्र के निरंजनी अखाड़े की छावनी में सभी 13 अखाड़ों के आचार्य महामंडलेश्वर की मौजूदगी में साध्वी निरंजन ज्योति का पट्टाभिषेक किया गया। जिसके बाद उन्हें महामंडलेश्वर की पदवी दी गई। निरंजनी अखाड़े के श्री महंत और अखिल भारतीय अखाड़े के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी ने बताया साध्वी निरंजन ज्योति साध्वी पहले हैं बाद में केन्द्रीय मंत्री।

पहली केन्द्रीय मंत्री बनीं

भारी संतों की मौजूदगी व संत दर्शको के बीच मंत्री को महामंडलेश्वर की उपाधि पर हर संत के लिए कौतूहल का विषय था। जब अखाड़े छावनी की में चादर विधि के तहत वैदिक मंत्रोच्चार के बीच में इन्हे महामंडलेश्वर की पदवी सौंपी जा रही थी तो हर-हर गंगे और शिव शंकर के उद्घोष से पूरा निरंजनी अखाड़ा और संत समुदाय में नई ऊर्जा का प्रभाह हो रहा था। पुरोहितों की ओर से उन्हें स्वस्तिवाचन से श्रीशुद्धि के बाद उनका पट्टाभिषेक किया गया। संतों ने साध्वी को आशीर्वाद भी दिया। साध्वी निरंजन ज्योति निरंजनी अखाड़े के महामंडलेश्वर परमानंद गिरी की शिष्या भी हैं। 

Find Us on Facebook

Trending News