नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे में हुआ बड़ा खुलासा, पहली बार बीपी जांच 63 प्रतिशत तक हो सकता है गलत

नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे में हुआ बड़ा खुलासा, पहली बार बीपी जांच 63 प्रतिशत तक हो सकता है गलत

NEWS4NATION DESK : ब्लड प्रेशर जी हां जिसे आजकल साइलेंट किलर भी कहा जाता है यह किसी को भी लपेटे में ले सकता है। लेकिन जब आप पहली बार ब्लड पेसर चेकअप करवा रहे हो तो सावधान रहिए यह 63% तक गलत हो सकता है।

इंडियन जर्नल आफ मेडिकल रिसर्च की ताजा रिपोर्ट की माने तो प्रशिक्षित लोगों से जांच करवाने के बाद भी ब्लडप्रेशर का आंकड़ा 63 फीसद तक गलत साबित हुआ है।

इंडियन जर्नल आफ मेडिकल रिसर्च नेशनल हेल्थ सर्विस 4K दौरान जब प्रशिक्षित स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं ने करीब 700000 लोगों का ब्लड प्रेशर चेकअप किया तो पहली बार की जांच में 16.5% लोग ही बीपी के मरीज पाए गए। वहीं जब कुछ ही देर बाद क्रमशः दूसरी और तीसरी जांच कराई गई तो आंकड़ा घटकर 10.1% ही रह गया। 

यानी पहली बार और दूसरी तीसरी बार के बीच जो अंतर पाया गया उसके अनुसार 63% बीपी जांच गलत पाए गए।  सर्वे जांच के आंकड़े अगर लिए जाते तो अनुमानित मरीजों की संख्या 4:30 करोड़ हो जाती है।  इंडियन जर्नल आफ मेडिकल रिसर्च यह ताजा रिपोर्ट चौंकाने वाली है कि आखिर प्रशिक्षित कार्यकर्ताओं से जांच कराने के बाद भी 63% ब्लड प्रेशर का आंकड़ा गलत पाया गया, जबकि डॉ ब्लड प्रेशर के आंकड़े के मुताबिक ही दवा लिखते हैं और खाने की सलाह देते हैं। 

कुल मिलाकर जो बातें सामने आई है उसमें यह है कि ब्लड प्रेशर जांच के दौरान इन बातों का जरूर ध्यान रखें पहला की ब्लड प्रेशर चेक कराने के दौरान कुर्सी पर आराम की मुद्रा में बैठें। वहीं दूसरी बात यह है कि शारीरिक और मानसिक तौर पर कतई उत्तेजित ना रहें। तीसरी जो अहम बात बताई गई है वह यह है कि चाय कॉफी पीने के तुरंत बाद ब्लड प्रेशर चेक ना कराएं। वहीं इस बात पर जोर दिया गया है कि जांच एक से ज्यादा बार और अलग-अलग दिन कराकर आंकड़े इकट्ठा करें।

Find Us on Facebook

Trending News