75 साल में पहली बार गणतंत्र दिवस पर बदला जा रहा है राजपथ पर होने वाले परेड का रूट, अब इस रास्ते पर दिखेगा यह अद्भूत नजारा

75 साल में पहली बार गणतंत्र दिवस पर बदला जा रहा है राजपथ पर होने वाले परेड का रूट, अब इस रास्ते पर दिखेगा यह अद्भूत नजारा

NEW DELHI : देश की आजादी के 75 साल पूरे होने के अवसर पर देश में 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस पर राजपथ पर निकलने वाले परेड के रूट में भी बदलाव किया जा रहा है। पहली बार परेड के रूट में बदलाव किया जा रहा है। इस साल गणतंत्र दिवस की परेड नए राजपथ से निकाला जाएगा। सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के तहत विजय चौक से इंडिया गेट तक राजपथ पर पुनर्विकास के काम हो रहे हैं, जो अंतिम चरण में हैं। जिसे जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा। 

पहली बार दिखाई जाएगी ड्रोन की परेड

अब तक राजपथ पर होनेवाले परेड में देश सिर्फ अपनी सुरक्षा और संस्कृति की झांकी को देखती रही है। लेकिन इस बार परेड में देशभर से प्रतिस्पर्धा के जरिये चुने गए प्रोफेशनल्स उतरेंगे। टेक्नोलाॅजी, स्वदेशी और नवीनता का समावेश करने के लिए ‘ड्रोन परेड’ का सबसे अनूठा पहलू जोड़ा गया है, जो परेड को यादगार बनाएगा। होगा। राजपथ के आकाश पर ड्रोन्स काे एक साथ कंट्रोल करने की क्षमता तो दिखेगी ही, 5 मध्य एशियाई देशों के राष्ट्राध्यक्षों के सामने आकाश में तिरंगे, संविधान और आजादी के अमृत महोत्सव का उद््घोष भी किया जाएगा। इसके लिए परेड पहली बार 1,000 ड्रोन की फौज तैयार की गई है। 

नए रूट पर आज से शुरू होगी परेड की प्रैक्टिस

रक्षा प्रतिष्ठान के अधिकारियों की मानें तो इस बार गणतंत्र की परेड को गण-गण की परेड बनाने के लिए चार बड़ी पहल की गई हैं। रक्षा मंत्रालय के मुताबिक, सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के तहत परेड के लिए जरूरी हिस्से जैसे राजपथ, उससे सटे लॉन, नहर, पार्किंग एरिया व अन्य हिस्सों का निर्माण पूरा हो गया है। 4 अंडरपास और 8 जन सुविधा केंद्र विकसित किए जाने थे, लेकिन उनका काम पूरा नहीं हो सका है। वह परेड के बाद जारी रहेगा। राजपथ पर लॉन व नहर के किनारे नए लाइट पोल लगाए गए हैं। नए राजपथ पर आज से टुकड़ों में परेड की प्रैक्टिस भी शुरू करने की बात कही गई है। हालांकि यह तय नहीं है कि नए राजपथ पर निकलने वाले परेड को देखने के लिए कितने दर्शकों की मौजूदगी होगी।

5000 हजार शहीदों के परिवार को सम्मान

समर स्मारक में शहीदों को नमन: गणतंत्र की भावना के अनुरूप देशभर से उन परिजनों को बुलाया जा रहा है, जिनके निकटजनों ने देश के लिए जान कुर्बान कर दी। इंडिया गेट से लगे समर स्मारक पर 5000 से अधिक परिवारजनों को एक साथ सम्मानित किया जाएगा।
 
 


Find Us on Facebook

Trending News