वन विभाग की लापरवाही: पानी के अभाव में सौ से अधिक बंदरों की हुई मौत

वन विभाग की लापरवाही: पानी के अभाव में सौ से अधिक बंदरों की हुई मौत

DEVAS : मध्यप्रदेश के देवास जिले के पुंजापुरा के जंगल में सौ से ज्यादा बंदरों की प्यास से मौत हो गयी है. प्यासे बन्दर भीषण गर्मी से बचने के लिए पथरीली गुफाओं और पेड़ों की जड़ों में पानी तलाशते रहे. लेकिन एक एक कर बन्दर मौत की आगोश में चले गए. हद तो तब हो गई जब इन मौतों को छुपाने के लिए वन विभाग के कर्मचारियों ने बिना पंचनामा कराये  बंदरों की लाशों को जलाने की कोशिश की. जंगल में बकरी चराने गये एक चरवाहे ने जब मरे बन्दरों को देखा तो मामले का खुलासा हुआ.

घटना देवास जिले के पुंजापुरा रेंज की है. यहाँ के जोशी बाबा के जंगल मानसीपुरा गांव के पास गुरुवार को कई बंदर मरे पाए गए. शव पेड़ के नीचे, पत्थरों की खोह और खंती में मिले हैं. पोस्टमार्टम करनेवाले डॉक्टर के अनुसार बंदरों की मौत हिट स्ट्रोक से हुई है. घटनास्थल के आसपास के तीन किमी क्षेत्र के जंगल में वन्यप्राणियों के पीने के पानी की कोई व्यवस्था नहीं है. 

इतना ही नहीं किसी को घटना का पता नहीं चले इसलिए कुछ बंदरों के शवों को जला भी दिया गया. इतने बंदरों के शव सिर्फ 500 मीटर के दायरे में मिले हैं. कई शव 1 सप्ताह से अधिक पुराने थे. बंदरों की मौत की सूचना पर ग्रामीण मौके पर पहुंचे तो देखा जगह-जगह बंदरों के शव पड़े थे. आसपास देखा तो कई बंदरों के कंकाल भी थे. कुछ बंदर जले हुए भी दिखाई दिए. वन विभाग के कर्मचारी भी मौके पर पहुंचे. कई शवों का पोस्टमार्टम कराकर अंतिम संस्कार करा दिया गया.

जहां बंदरों की मौत हुई है वहां दूर-दूर तक पानी की व्यवस्था नहीं है. आसपास पानी की व्यवस्था होती तो शायद इतने बंदरों की मौत नहीं हुई होती. इसमें वन विभाग की लापरवाही उजागर हुई है. पुंजापुरा रेंजर दिनेश निगम का कहना है बंदरों के शवों का पोस्टमार्टम कराकर अंतिम संस्कार करा दिया गया है. 


Find Us on Facebook

Trending News