इमरजेंसी के दौरान जेल में गीता पढ़कर सुनाते थे जॉज फर्नांडीस, पहले होगा दाह-संस्कार, फिर दफनाई जाएंगी अस्थियां...

इमरजेंसी के दौरान जेल में गीता पढ़कर सुनाते थे जॉज फर्नांडीस, पहले होगा दाह-संस्कार, फिर दफनाई जाएंगी अस्थियां...

DELHI/PATNA : पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडीस के निधन से पूरे देश में शोक की लहर है। बताया जा रहा है कि उनका अंतिम संस्कार हिन्दू और ईसाई दोनों रीति-रिवाजों से किया जाएगा। जॉर्ज फर्नांडीस ने भले ही ईसाई परिवार में जन्म लिया लेकिन हिन्दू धर्म में उनकी गहरी आस्था थी। बताया जाता है कि इमरजेंसी के दौरान जेल में जॉर्ज कैदियों को श्रीमद्भागवतगीता पढ़कर सुनाते थे।

  जॉर्ज की सहयोगी जया जेटली ने कहा- उन्होंने अपने दाह संस्का्र की इच्छा जाहिर की थी मगर अंतिम दिनों में उन्होंने कहा कि वह दफनाए जाना चाहते हैं। इसलिए हम शव का दाह संस्कार करेंगे और अस्थियों को दफनाएंगे ताकि उनकी दोनों इच्छाएं पूरी हो सकें।

पीएम ने दी श्रद्धांजलि

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फर्नांडीस के दिल्ली स्थित आवास पर जाकर श्रद्धांजलि दी। पीएम मोदी ने निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि जॉर्ज साहब भारत के सर्वश्रेष्ठ राजनेताओं का प्रतिनिधित्व करते थे। वे निडर और दूरदर्शी थे। गरीबों और हाशिए पर रहने वाले लोगों की वह सबसे असरदार आवाज थे। जब मैं उनके बारे में सोचता हूं तो एक साहसी ट्रेड यूनियन नेता की छवि उभरती है जो इंसाफ के लिए लड़ा।

बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने फर्नांडिस के निधन को व्यक्तिगत क्षति बताते हुए कहा कि उनके निधन से उन्होंने अपना अभिभावक खो दिया है। बता दें कि दिग्गज समाजवादी नेता और पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस का लंबी बीमारी के बाद मंगलवार सुबह निधन हो गया। वह 88 वर्ष के थे। 


Find Us on Facebook

Trending News