पूर्व डिप्टी मेयर नीरज हत्याकांड : मुन्ना बजरंगी के शार्प शूटर रिंकू उर्फ विकास सिंह को नहीं मिला बेल

पूर्व डिप्टी मेयर नीरज हत्याकांड : मुन्ना बजरंगी के शार्प शूटर रिंकू उर्फ विकास सिंह को नहीं मिला बेल

NEWS4NATION DESK : धनबाद के चर्चित पूर्वडिप्टी मेयर नीरज सिंह समेत चार लोगों की हत्या मामले में कोर्ट ने सोमवार को मुन्ना बजरंगी के शॉर्प शूटर रिंकू सिंह उर्फ धर्मेंद्र प्रताप सिंह उर्फ विकास सिंह की जमानत अर्जी खारिज कर दी। 

सोमवार को मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी राजीव रंजन की अदालत में जमानत की अर्जी पर सुनवाई हुई। 

रिंकू सिंह की ओर से कोर्ट में बहस करते हुए उसके अधिवक्ता ने बताया कि रिंकू सिंह इस मामले का अप्राथमिक अभियुक्त है। इस मामले के आरोपी पंकज सिंह के स्वीकारोक्ति बयान में रिंकू सिंह का नाम आया है और उस समय पंकज सिंह पुलिस हिरासत में था। पुलिस हिरासत में दिए गए बयान का कानूनी दृष्टि से कोई महत्व नहीं होता है। बयान के आधार पर पुलिस भी बरामद नहीं कर सकी, इसलिए इस बयान का कोई औचित्य नहीं है।

बचाव पक्ष के इस दलील को कोर्ट ने नहीं माना और जमानत याचिका को खारिज कर दिया। बता दें विकास सिंह  को पुलिस 12 जून 2019 को प्रोडक्शन वारंट के आधार पर गाजीपुर जेल से धनबाद लाई थी, जहां से उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया। 

विकास सिंह के खिलाफ आरोप है कि मिर्जापुर जेल में रहते हुए उसने नीरज सिंह की हत्या की सुपारी पंकज सिंह से ली थी। पंकज सिंह ने पुलिस को दिए अपने स्वीकारोक्ति बयान में रिंकू सिंह उर्फ विकास सिंह का नाम लिया था और कहा था कि रिंकू ने अपने विश्वासी शूटरों को घटना को अंजाम देने के लिए धनबाद भेजा था।

बता दें कि 22 मार्च 2017 को  धनबाद के एक्स डिप्टी मेयर नीरज सिंह की अपराधियों ने सरेशाम गोली मारकर हत्या कर दी थी। उन्हें 17 गोलियां मारी गई थी। सरायढ़ेला थाना एरिया के स्टील गेट के पास 'कुंती निवास' के पास मंगलवार की शाम साढ़े सात बजे के करीब हमलावरों द्वारा एके-47 से की गई ताबड़तोड़ फायरिंग में उनके साथी अशोक यादव, बॉडीगार्ड और ड्राइवर भी मारे गए थे। सभी हमलावर बाइक पर सवार होकर आए थे। चार लोगों की हत्या के बाद पूरे शहर में सनसनी फैल गई थी।

नीरज हत्याकांड मामले में झरिया के बीजेपी विधायक व नीरज के चचेरे भाई संजीव सिंह जेल में है। 

Find Us on Facebook

Trending News