भारत से जुड़ी खुफिया जानकारी पाकिस्तान से शेयर करने के आरोपों से घिरे पूर्व उप-राष्ट्रपति, भाजपा ने उठाए सवाल

भारत से जुड़ी खुफिया जानकारी पाकिस्तान से शेयर करने के आरोपों से घिरे पूर्व उप-राष्ट्रपति, भाजपा ने उठाए सवाल

NEW DELHI : भारत से जुड़ी कई महत्वपूर्ण जानकारी पाकिस्तान के साथ शेयर करने को लेकर पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी बुरी तरह घिरते हुए नजर आ रहे हैं। जिस तरह से एक पाकिस्तानी पत्रकार ने यह दावा किया है कि वह पूर्व उपराष्ट्रपति के कार्यकाल के दौरान उनसे पांच बार मिला और हर बार खुफिया मुद्दे की जानकारी साझा की गई। इसके बाद भाजपा हमलावर मोड में आ गई है। भाजपा ने सीधे सीधे पूर्व उप राष्ट्रपति की सत्यनिष्ठा पर सवाल उठा दिए हैं। वहीं दूसरी तरफ पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी ने पाकिस्तानी पत्रकार के लगाए आरोपों को पूरी तरह से बेबुनियाद करार दिया है। 

यह पूरा मामला तब शुरू हुआ, जब पाकिस्तानी पत्रकार नुसरत मिर्जा ने एक टॉक शो के दौरान कहा कि भारत के तत्कालीन उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के बुलावे पर वे भारत गए थे। यहां उन्होंने कई खुफिया जानकारियां जुटाईं, जिन्हें पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI को सौंप दिया था। इन जानकारियों का इस्तेमाल भारत के खिलाफ किया जाता था। आरोप है कि पाकिस्तानी पत्रकार को भारत के पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने 2005 से 2011 के बीच में 5 बार न्यौता देकर भारत बुलाया था।

पूर्व RAW एजेंट ने भी कहा था- हमारा जीवन खतरे में डाला
 इससे पहले भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ के पूर्व अधिकारी एनके सूद भी हामिद अंसारी के खिलाफ गंभीर आरोप लगा चुके हैं। 28 जून, 2019 को ट्वीट कर उन्होंने लिखा था, 'मैं तेहरान, ईरान में था और हामिद अंसारी तेहरान में राजदूत थे। अंसारी ने तेहरान में रॉ के लोगों का जीवन खतरे में डाल दिया था। उन्होंने रॉ सेटअप को उजागर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी, लेकिन इसी व्यक्ति को लगातार दो बार देश का वाइस प्रेसिडेंट बनाया गया।' अब नुसरत मिर्जा के दावों के बाद सूद का वह ट्वीट फिर वायरल हो गया है। 

आरोपों के बाद भाजपा हुई आक्रमक

पाकिस्तानी पत्रकार के आरोपों के बाद भाजपा आक्रमक हो गई है। पार्टी प्रवक्ता गौरव भाटिया ने कहा कि नुसरत मिर्जा साक्षात्कार में कहता है कि जब मैं भारत के दौरे पर था तब तत्कालीन उपराष्ट्रपति मुझे भारत बुलाते हैं। हमारी बातचीत में जो जानकारी साझा की जाती है वो अति संवेदनशील और गोपनीय होती थी। पाकिस्तान पत्रकार बताता है कि अति संवेदनशील और गोपनीय जानकारी एक बार नहीं बल्कि पांच बार साझा की गई।

अंसारी बोले - मैं कभी नहीं मिला
 भाजपा के आरोपों के बाद हामिद अंसारी ने बयान जारी कर मिर्जा के भारत दौरे पर सफाई दी। उन्होंने कहा कि सब जानते हैं कि उपराष्ट्रपति जिन विदेशी गणमान्य लोगों को न्योता भेजता है, उसकी लिस्ट सरकार ही तैयार करती है। उन्होंने खुद कभी पाकिस्तानी पत्रकार को न्योता नहीं दिया। साथ ही वे पाकिस्तानी पत्रकार से कभी नहीं मिले। उन्होंने कहा कि भाजपा उन पर झूठे आरोप लगा रही है।

हामिद अंसारी ने कहा कि आतंकवाद पर मैंने एक कॉन्फ्रेंस का उद्घाटन 11 दिसंबर 2010 को किया था. जैसा कि सामान्य प्रैक्टिस है मेहमानों की सूची की लिस्ट आयोजकों ने तैयार की थी। मैंने उसे कभी नहीं बुलाया और न ही मिला।

Find Us on Facebook

Trending News