एक साथ शौच करने नदी के किनारे गए चार दोस्त बाढ़ के पानी में डूबे, तीन शव निकाले गए

एक साथ शौच करने नदी के किनारे गए चार दोस्त बाढ़ के पानी में डूबे, तीन शव निकाले गए

MOTIHARI : जिले के  बंजरिया में बड़ा हादसा हो गया है। बीती रात यहां शौच करने जाने के दौरान चार दोस्त बाढ़ के पानी मे डूब गए। गांव में मची अफरातफरी मच गई। स्थानीय गोताखोरों की सहायता से तीन युवकों का शव बरामद कर लिया है, लेकिन एक युवक अब भी लापता बताया जा रहा है।  फिलहाल,  पुलिस मौके पर पहुँच जांच में जुट गई है।

 घटना बंजरिया थाना के बनकट की बतायी जा रही है की घटना। शौच करने निकले चार दोस्त एक साथ बाढ के पानी में डुब गये, चार की मौत पानी में डुबने से हो गयी है। ग्रामीणों ने तीन युवकों के शव को निकाल लिया है,जबकि  एक युवक के शव की तलाश जारी है। ग्रामीणों और प्रशासनिक अधिकारियों के पहल पर एनडीआरएफ की टीम ने आज देर शाम शव की खोज किया। लेकिन अंधेरा होने के कारण एनडीआरएफ की टीम को पूरी सफलता नहीं मिल सकी है। 

एक अन्य साथी ने दी घटना की जानकारी

घटना पूर्वी चम्पारण के बंजरिया प्रखंड के गोखुला और बनकट गांव के निवासी चार दोस्त दोनों गांवों के बीच मिले। सभी शौच करने के लिए घर से निकले थे। एक साथ मिलकर दोस्तों ने बाढ के पानी के किनारे खेलने के दौरान गहरे पानी में डुब गये। साथ डूबे एक युवक किसी तरह बचकर घटना की सूचना गांव के लोगों को दी। जब तक गांव के लोगों को युवकों के डूबने की सूचना मिली तबतक देर हो चुकी थी। ग्रामीणों ने डूबे तीन युवकों के शव को गहरे पानी से निकाला है,जबकि एक युवक अब  भी लापता है। 

बाढ़ के बीच टूटा दुखों का पहाड़

ग्रामीणों की सूचना पर बंजरिया के सीओ और पुलिस मौके पर पहूंचकर शवों को बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। वहीं मृतक विक्की कुमार के पिता अदालत महतों ने बाढ़ की पीडा के बीच इस प्रकार की घटना को दुख का पहाड़ बताया है और सरकार से मदद की गुहार लगाया है। वहीं मृतक अनीश कुमार के पिता सोनालाल साह ने बताया कि बच्चे शौच करने गये थे,जहां घटना हो गयी है। 

आपदा राहत के तहत तत्काल मिले मुआवजा

मौके पर पहूंचे नरकटिया के राजद विधायक शमीम अहमद ने सरकार के कार्यों पर प्रश्न खडा करते हुए कहा कि बाढ से मुक्ति के स्थायी निदान की बात करने वाली सरकार ने इस ओर कुछ भी नहीं किया है। बंजरिया प्रखंड की नियति ही बनी है बाढ। उन्होंने सरकार से आपदा राहत कोष से पिछले साल हुई मौत के पीडित परिजनों को राहत राशि नहीं देने की बात कहीं और कहा कि पीडितों को ससमय राहत राशि दिया।


Find Us on Facebook

Trending News