पुलिस को शक्ति कहां से मिलती है? इस सवाल का सही जबाब नहीं दे पाये थे पूर्व DGP अभयानंद

पुलिस को शक्ति कहां से मिलती है? इस सवाल का सही जबाब नहीं दे पाये थे पूर्व DGP अभयानंद

PATNA: पुलिस को शक्ति कहां से मिलती है? इस सवाल का जवाब क्या हो सकता है?  एक बार इस सवाल के जवाब में बिहार के पूर्व डीजीपी जो उस समय एएसपी के रूप में कार्यरत्त थे वे फंस गये थे। सहायक पुलिस अधीक्षक के पिताजी के आईपीएस मित्र ने यह सवाल पूछा था। आईपीएस की परीक्षा पास कर सहायक पुलिस अधीक्षक के पद पर कार्यरत्त नये अधिकारी ने जितना भी पढ़ा था उन सब को बारी-बारी से उन्हें बताया। लेकिन वो सही जवाब देने में सफल नहीं हो सके। वो आईपीएस अधिकारी थे अभयानंद।

जितना भी पढ़ा सब बता दिया फिर भी नहीं दे पाये सही उत्तर

बिहार के पूर्व डीजीपी अभयानंद ने यह खुलासा किया है। उन्होंने फेसबुक पेज पर लिखा है- पुलिस को शक्ति कहाँ से मिलती है? उन्होंने अपने बारे में बताया कि मैं सहायक पुलिस अधीक्षक के रूप में पदस्थापित था। पिताजी के एक IPS मित्र ने मुझसे एक सवाल पूछ दिया - "यह बताओ कि पुलिस की शक्तियाँ तुम्हें कहाँ से मिलती हैं?"अभयानंद ने कहा कि सवाल के बाद पिछले एक साल में कानून की जितनी पढ़ाई की थी उन सब को बारी-बारी से उनको बता दिया, इस विश्वास के साथ कि किसी एक उत्तर से वे खुश होकर मेरी पीठ थपथपा देंगे। लेकिन वैसा हुआ नहीं।

कानूनी रूप से सही आदेश की आम स्वीकार्यता जरूरी 

मेरे पिताजी के आईपीएस मित्र जिन्होंने सवाल पूछा था वे मुस्कराते हुए मेरे उत्तर धैर्य से सुनते रहे। अंत में उन्होंने कहा, "तुम्हारी शक्ति उन लोगों की स्वीकारिता से आती है जिनपर तुम अपना हुक़्म चलाना चाहते हो।" यह सीख मेरे ज़ेहन में घर कर गई। समझ गया कि कानूनी रूप से जितना भी सही आदेश हो, अगर उसकी आम स्वीकार्यता नहीं हो, तो कानूनी शक्ति कानून की किताबों में बंद रह जाती है। 

Find Us on Facebook

Trending News