मेडिकल प्रवेश परीक्षा में सफल हुए विद्यार्थियों को गोल इंस्टीट्यूट ने किया सम्मानित, स्टूडेंटों की पहली पसंद है Goal

मेडिकल प्रवेश परीक्षा में सफल हुए विद्यार्थियों को गोल इंस्टीट्यूट ने किया सम्मानित, स्टूडेंटों की पहली पसंद है Goal

पटना. झारखण्ड में मेडिकल की तैयारी कर रहे छात्रों की पहली पसंद बन चुकी गोल इंस्टीट्यूट ने आज आर्यभट सभागार, राँची में आयोजित सम्मान समारोह में अपने सैकड़ों सफल छात्रों को सम्मानित किया. गोल के द्वारा आयोजित इस समारोह में गोल इंस्टीट्यूट से सफल 572 छात्रों में से झारखण्ड से सफल 60 से अधिक छात्रों को सम्मानित किया गया है.

प्रोग्राम में मुख्य अतिथी के रूप में वक्तव्य देते हुए डॉक्टर शंभु प्रसाद सिंह, प्रसिडेंट, आइ.इम.ए. ने कहा कि सफल छात्रों को आने वाले समय में समाज की कई अपेक्षाओं पर खरा उतरना होगा. उन्होनें छात्रों को स्वास्थ्य के क्षेत्र में बेहतर कार्य के लिए प्रेरित किया. इस समारोह में डॉक्टर प्रदीप कुमार सिंह, जेनरल सेक्रेटरी, झारखण्ड स्टेट, आइ.इम.ए., डॉक्टर संजय कुमार, वॉइस चेयरमैन एंड डायरेक्टर, न्यूरोसाइंसेज, संजय मिश्रा, संपादक प्रभात खबर, राँची, अतुल प्रताप, डायरेक्टर द बर्लिन, डॉक्टर अंबुज, रेडियोलॉजिस्ट, डायरेक्टर बर्लिन डायग्नोस्टिक डे केयर के अलावा कई अन्य गणमान्य अतिथी ने सफल छात्रों से अपने अनुभव को साझा किए.

सफल छात्रों को सफलता पर बधाई देते हुए गोल इन्स्टीट्यूट के मैनेंजिंग डायरेक्टर विपीन सिंह ने कहा कि कोरोना काल के विषम परिस्थितियों के बावजूद सफलता प्राप्त किये इन सफल छात्रों पर हमारी संस्थान गौरवान्वित है. उन्होंने सफलता का श्रेय छात्रों के अथक परिश्रम और उनके अभिभावकों के सहयोग को देते हुए कहा कि हमारी टीम लगातार छात्रों के सफलता के लिए प्रतियोगिता के नए प्रारूप के अनुसार तैयारी करवा रही है और उसी का परिणाम है कि आज बिहार एवं झारखण्ड से साधारण प्रतिभा वाले छात्र भी सफल हो रहे हैं. विपीन सिंह ने दिव्यांग छात्रों के लिए निःशुल्क शिक्षा मुहैया करवाने का वादा करने के साथ छात्रों को आने वाले समय में और भी बेहतर सुविधाएं देकर मेडिकल के कॉम्पीटिशन में सफलता को आसान बनाने का आश्वासन दिए.

गोल इन्स्टीट्यूट के असिस्टेंट डायरेक्टर रंजय सिंह ने बताया की इस वर्ष नीट में 6635 छात्र क्वालीफाई किए, जिनमें से 572 छात्रों को सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमीशन मिलने की संभावना है. हमारी संस्थान अगले सत्र के लिए फाउण्डेशन, टारगेट, एचीवर एवं टेस्ट सिरिज के माध्यम से नीट के लिए छात्रों को और भी बेहतर सुविधाओं के साथ तैयारी करवाएगी.

समारोह में पुरस्कृत छात्रों में वरूण शौरभ, आल इंडिया रैंक 2968 (657 मार्क्स), मुस्कान कुमारी, आल इंडिया रैंक 3645 (652 मार्क्स), सुबोध कुमार, आल इंडिया रैंक 4174 (649 मार्क्स), गौतम कुमार, आल इंडिया रैंक 4327 (648 मार्क्स), आयुष कान्त, आल इंडिया रैंक 4599 (646 मार्क्स), अनिता स्वर्णकार, आल इंडिया रैंक 5069 (644 मार्क्स), विकाश कुमार, आल इंडिया रैंक 5486 (642 मार्क्स), आशिष अग्रवाल, आल इंडिया रैंक 5985 (640 मार्क्स) के साथ सैंकड़ों अन्य छात्रों ने सफलता प्राप्त की है.

आनन्द मिश्रा, आल इंडिया रैंक 928 (680 मार्क्स), सिद्धान्त, आल इंडिया रैंक 1357 (673 मार्क्स), अमन राज, आल इंडिया रैंक 1488 (671 मार्क्स), रिभव वत्स, आल इंडिया रैंक 1734 (669 मार्क्स), प्रिन्स कुमार, आल इंडिया रैंक 2002 (665 मार्क्स), कुमार सानु, आल इंडिया रैंक 2007 (665 मार्क्स) एवं रितिक सिंह, आल इंडिया रैंक 2562 (660 मार्क्स), को बड़ी सफलता के लिए पुरस्कृत करते हुए एम.बी.बी.एस. प्रथम वर्ष के किताब के लिए 10000 रुपये का चेक दिया गया है.

इस वर्ष बिहार एवं झारखण्ड मेडिकल के सफल छात्रों में ज्यादातर छात्र गोल इन्स्टीट्यूट से ही हैं. गोल विलेज के 90 प्रतिशत एवं गोल चैलेंजर ग्रुप के 100 प्रतिशत छात्रों ने सफलता प्राप्त कर सफलता का बेमिशाल उदाहरण प्रस्तुत किया है. समारोह का संचालन गौरव प्रकाश ने किया, जिसमें उन्होनें बताया कि इस वर्ष नीट परीक्षा में कोरोना संक्रमण में गोल के छात्रों ने विपरीत परिस्थिति में भी गोल विलेज (ब्वॉयज एवं गर्ल्स) में रहकर उम्दा प्रदर्शन किया है. धनबाद ब्रांच के सेन्टर हेड संजय आनन्द ने सफल छात्रों को शुभकामना के साथ साथ अगल वर्ष के छात्रों को मार्गदर्शीत किया. इस प्रोग्राम में कालि प्रसाद, एमडी. दानीश, किरन, सोनाली एवं कई अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे.


Find Us on Facebook

Trending News