केन्द्रीय मंत्री अश्विनी चौबे से गेस्ट्रोलोजिस्ट डॉ. मनोज ने की मुलाकात, पेयजल को लेकर राष्ट्रीय मानक तय करने पर की चर्चा

केन्द्रीय मंत्री अश्विनी चौबे से गेस्ट्रोलोजिस्ट डॉ. मनोज ने की मुलाकात, पेयजल को लेकर राष्ट्रीय मानक तय करने पर की चर्चा

PATNA : गेस्ट्रो मेडिकेयर सेंटर के डॉ. मनोज कुमार ने आज केन्द्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे से मुलाकात की। इस मौके पर उन्होंने पेयजल से सम्बंधित समस्या को लेकर केन्द्रीय मंत्री से चर्चा की। डॉ. मनोज कुमार ने कहा की पेयजल के बारे में एक राष्ट्रीय मानक तय करने की ज़रूरत है।


उन्होंने कहा की आजकल जो तरह तरह के वाटर प्यूरीफायर मशीन हैं। उनसे उत्पन्न पानी न्यूट्रीशनल समस्या पैदा कर रहे हैं। साथ ही उनसे पानी की बर्बादी भी हो रही है। समस्या सुनने के बाद केन्द्रीय मंत्री ने इसपर त्वरित कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है।

डॉक्टरों का मानना है की वॉटर प्यूरीफायर में कई ऐसे केमिकल्स मौजूद होते हैं जो शरीर के संपर्क में आने से रिएक्ट करते हैं, इससे कई गंभीर बीमारियां हो सकती हैं। पानी को शुद्ध करने के लिए आरओ यानी रिवर्स ऑस्मोसिस तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है। ये पानी से कई तरह की अशुद्धियों को निकालता है। लेकिन इससे मिनरल्स भी निकल जाते हैं। ऐसे में शरीर की इम्यूनिटी स्ट्रांग नहीं हो पाती है। 

नेचुरल पानी में कैल्शियम और मैग्नीशियम होते हैं। लेकिन प्यूरीफायर के संपर्क में आने से ये तत्व नष्ट हो जाते हैं। इससे हड्डियां कमजोर हो सकती हैं। वॉटर प्यूरीफायर में पानी छानने के लिए एक प्लेट लगी होती है। जिसमें कॉपर की मात्रा ज्यादा होती है। इसे मानक से ज्यादा इस्तेमाल करने पर डाइजेशन की दिक्कत हो सकती है।


Find Us on Facebook

Trending News