पितृपक्ष मेला के बहाने पर्यटकों को लुभाने की कोशिश, गया से दिल्ली और बोधगया से राजगीर के लिए चलेगी एसी वॉल्वो बस

पितृपक्ष मेला के बहाने पर्यटकों को लुभाने की कोशिश, गया से दिल्ली और बोधगया से राजगीर के लिए चलेगी एसी वॉल्वो बस

PATNA: गया में 12 सितंबर से विश्व प्रसिद्ध पितृपक्ष मेला का शुभारंभ हो रहा है। यहां आने-जाने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए बिहार राज्य पथ परिवहन निगम 13 सितंबर से नगर बस सेवा का परिचालन शुरू करने जा रहा है। परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि पितृपक्ष मेले में देश-विदेशों से श्रद्धालुओं का आगमन होता है। काफी संख्या में श्रद्धालुओं का आवागमन होता है। उन्हें आने जाने में किसी तरह की असुविधा न हो इसके लिए पर्याप्त संख्या में बसों का परिचालन शुरू किया जाएगा।

परिवहन सचिव ने बताया कि पितृपक्ष मेला के अवसर पर गया में 15 नगर बस सेवा का शुभारंभ किया जा रहा है। वहीं गया से दिल्ली और गया से राजगीर वाया नालंदा के लिए भी एक-एक एसी वॉल्वो बस का परिचालन शुरू किया जा रहा है। इन बसों का परिचालन 13 सितंबर से शुरू हो जाएगा। 15 नगर बस सेवा का परिचालन गया के तीन रूटों पर किया जाएगा। विष्णुपद से प्रेतशीला के लिए 4 बस, विष्णुपद से बोधगया के लिए 7 बस और गया रेलवे स्टेशन से विष्णुपद के लिए 4 बसों का परिचालन किया जाएगा। 

उन्होंने कहा कि पितृपक्ष मेला के दौरान देश और देश के अन्य दूसरे हिस्सों से भी श्रद्धालू श्राद्ध, पिंडदान और तर्पण करने के लिए आते हैं। दिल्ली से गया आने-जाने के लिए श्रद्धालुओं के लिए विशेष तौर से वातानुकूलित वॉल्वो बस की सेवा शुरू की जा रही है। 52 सीटर वातानुकूलित बस में बैठ कर आराम से सफर कर सकते हैं। यह बस हर चलेगी। किराया 1620 रूपए है। दिल्ली से गया और गया से दिल्ली की यात्रा कर सकेंगे। 

परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि ट्रेन में कंफर्म सीट नहीं मिलने की वजह से कई श्रद्धलु चाह कर दिल्ली से बोधगया नहीं आ पाते हैं ऐसी परिस्थिति में दिल्ली और गया के बीच वॉल्वो बस के परिचालन से श्रद्धलुओं को काफी राहत मिलेगी। 

उन्होंने कहा कि राजगीर पर्यटन क्षेत्र होने की वजह से जो लोग बोध गया आते हैं वह राजगीर और नालंदा जाना चाहते हैं। अच्छे और सुलभ संसाधन नहीं होने की वजह से नहीं जा पाते हैं। इसलिए परिवहन विभाग ने पहली बार एसी वॉल्वो नालंदा, राजगीर और बोधगया के बीच शुरू की है। यह 3 बार अप-डाउन करेगी। यहाँ आराम से पर्यटक एसी व आधुनिक बस में बैठकर सफर कर सकते हैं। पितृपक्ष के माध्यम से बिहार में पर्यटन क्षेत्र को लुभाने की यह एक महत्वपूर्ण कोशिश है।

Find Us on Facebook

Trending News