स्कूलों में शुक्रवार की छुट्टी पर गिरिराज सिंह ने जताया कड़ा ऐतराज, देश में हो कानून का राज न कि शरिया कानून

स्कूलों में शुक्रवार की छुट्टी पर गिरिराज सिंह ने जताया कड़ा ऐतराज, देश में हो कानून का राज न कि शरिया कानून

पटना. बिहार में सीमांचल से जुड़े जिलों में सरकारी स्कूलों में रविवार के बदले शुक्रवार को साप्ताहिक छुट्टी होने पर केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने जोरदार आपत्ति जताई है. उन्होंने शुक्रवार को छुट्टी होने पर ऐतराज जताते हुए इसे शरिया कानून जैसा बता दिया. शनिवार को मीडिया से बात करते हुए भाजपा के फायर ब्रांड नेता गिरिराज सिंह ने कड़े शब्दों में इसकी आलोचना की. 

उन्होंने कहा कि देश के अंदर पहले इस तरह की बात उत्तर प्रदेश में आई और अब बिहार में सामने आया है. देश में कानून का राज होना चाहिए. देश में कानून के तहत आजादी के बाद से ही स्कूलों और ऑफिसों में रविवार को छुट्टी होती है. ऐसे में शुक्रवार की छुट्टी उचित नहीं है. यह एक संप्रदाय के लिए शरिया कानून के तहत है.

दरअसल, किशनगंज में 37, कटिहार में 138 सहित राज्य के करीब आधा दर्जन जिलों में लगभग 300 स्कूलों में शुक्रवार को छुट्टी रहती है. शुक्रवार को जिन स्कूलों में छुट्टी होती है उनमें ज्यादातर उर्दू स्कूल हैं. यहां पढने वाले बच्चों में भी बड़ी संख्या भी मुस्लिम समुदाय के बच्चों की है. पिछले दिनों जब स्कूलों में रविवार के बदले शुक्रवार को छुट्टी होने की खबर ने सुर्खियां बटोरी तो राज्य के राजनीतिक दल इस पर भिन्न राय प्रकट करने लगे. 

जहाँ भाजपा ने इसे मुस्लिम समुदाय को खुश करने के लिए लिया गया निर्णय करार दे दिया है वहीं एनडीए के शेष घटक दल इससे अलग राय प्रकट कर चुके हैं. जदयू के उपेंद्र कुशवाहा ने शुक्रवार की छुट्टी पर सियासत नहीं करने की बात करते हुए कहा कि राज्य के संस्कृत स्कूलों में भी अष्टमी और प्रतिपदा को स्कूलों में छुट्टियां दी जाती हैं. उन्होंने शुक्रवार की छुट्टी में कुछ भी अनुचित नहीं होने की बात कही है. इसी तरह एनडीए में शामिल एक और दल हम ने भी शुक्रवार की छुट्टी का समर्थन किया है. 


Find Us on Facebook

Trending News