गिरिराज सिंह का बड़ा बयान राज्यवार जनसंख्या के हिसाब से तय हो अल्पसंख्यकों का दर्जा

गिरिराज सिंह का बड़ा बयान राज्यवार जनसंख्या के हिसाब से तय हो अल्पसंख्यकों का दर्जा

NEWS4NATION DESK :  बीजेपी के फायर ब्रांड नेता और केंद्रीय पशुपालन मंत्री गिरिराज सिंह ने एक बार फिर बीजेपी नेता व वकील अश्विनी की सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका का समर्थन कर यह जता दिया है कि उनका नजरिया हिंदुत्व को लेकर बिल्कुल साफ है।

कट्टर हिंदूवादी छवि के लिए जाना जाने वाले गिरिराज ने एक बार फिर से ट्वीट करते हुए कहां है की अल्पसंख्यकों का दर्जा जनसंख्या के हिसाब से तय होना चाहिए। 

बता दें कि गिरिराज सिंह ने बीजेपी नेता और वकील अश्विनी उपाध्याय द्वारा सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई याचिका का समर्थन करते हुए कहा है की राज्यवार जनसंख्या के हिसाब से अल्पसंख्यकों के दर्ज तय हो।

मतलब साफ है कि जहां यानी जिस राज्य में जिस समुदाय की  जनसंख्या ज्यादा हो या कम हो उसके हिसाब से अल्पसंख्यकों के दर्जा तय किया जाय। 

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट में भाजपा नेता और वकील अश्विनी उपाध्याय ने याचिका दायर की है। दायर की गई एक जनहित याचिका में राष्ट्रीय आंकड़े की जगह राज्यवार जनसंख्या के आधार पर अल्पसंख्यक समुदायों का निर्धारण करने की मांग की गई है। याचिका में केंद्र की 26 साल पुरानी अधिसूचना की वैधता को चुनौती दी गई है। 

इस अधिसूचना में पांच समुदायों मुस्लिम, ईसाई, सिख, बौद्ध और पारसी को अल्पसंख्यक घोषित किया गया है। इसके साथ ही याचिका में राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग अधिनियम 1992 की धारा 2 (सी) को असंवैधानिक घोषित करने की मांग की गई है। इसी अधिनियम के तहत 23 अक्टूबर 1993 को अधिसूचना जारी की गई थी।

कोर्ट ने इस याचिका की सुनवाई में अटार्नी जनरल केके वेणुगोपाल से सहयोग मांगा है। अगली सुनवाई चार सप्ताह बाद तय करते हुए शीर्ष कोर्ट ने याचिकाकर्ता से अपनी याचिका की प्रति अटार्नी जनरल के कार्यालय को उपलब्ध कराने को कहा है।

Find Us on Facebook

Trending News