पटना में गोल इंस्टीट्यूट ने सम्मान समारोह का किया आयोजन, मेडिकल परीक्षा में सफ़ल सैकड़ों छात्रों को किया सम्मानित

पटना में गोल इंस्टीट्यूट ने सम्मान समारोह का किया आयोजन, मेडिकल परीक्षा में सफ़ल सैकड़ों छात्रों को किया सम्मानित

PATNA : बिहार एवं झारखण्ड में मेडिकल की तैयारी कर रहे छात्रों की पहली पसंद बन चुकी गोल इन्स्टीट्यूट ने आज बापू सभागार में आयोजित सम्मान समारोह में अपने सैकड़ों सफल छात्रों को सम्मानित किया। गोल के द्वारा आयोजित इस समारोह में गोल इंस्टीट्यूट के बिहार एवं झारखंड से लगभग 400 से अधिक सफल छात्रों को सम्मानित किया गया। प्रोग्राम में मुख्य अतिथि के रूप में वक्तव्य देते हुए बिहार सरकार के मुख्य सचिव आमिर सुबहानी ने कहा कि सफल छात्रों को आने वाले समय में समाज की कई अपेक्षाओं पर खरा उतरना होगा। उन्होनें छात्रों को स्वास्थ्य के क्षेत्र में बेहतर कार्य के लिए प्रेरित किया।


इस समारोह में आई.जी.आई.एम.एस. के डॉयरेक्टर डॉ. विभुति प्रसाद सिन्हा, प्रसिद्ध हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ सिद्धनाथ सिंह,डॉ. विनित कुमार, डॉ. अखिलेश कुमार, डॉ. संगीत कुमार, डॉ चित्र झा, डॉ. एस.के. सिंह के अलावा कई अन्य गणमान्य अतिथियों ने सफल छात्रों से अपने अनुभव को साझा किए एवं चिकित्सा एवं स्वास्थ के क्षेत्र में भविष्य में सफलता प्राप्त करने के लिए महत्वपूर्ण दिशा निर्देश दिए।सफल छात्रों को सफलता पर बधाई देते हुए गोल इन्स्टीट्यूट के मैनेंजिंग डायरेक्टर विपीन सिंह ने कहा कि कोरोना काल के विषम परिस्थितियों के बावजूद सफलता प्राप्त किये। इन सफल छात्रों पर हमारी संस्थान गौरवान्वित है। उन्होनें सफलता का श्रेय छात्रों के अथक परिश्रम और उनके अभिभावकों के सहयोग को देते हुए कहा कि हमारी टीम लगातार छात्रों के सफलता के लिए प्रतियोगिता के नए प्रारूप के अनुसार तैयारी करवा रही है और उसी का परिणाम है कि आज बिहार एवं झारखण्ड से साधारण प्रतिभा वाले छात्र भी सफल हो रहे हैं। सिंह ने अगले वर्ष मेडिकल की तैयारी करने वाले छात्रों को आने वाले समय में और भी बेहतर सुविधाएं देकर मेडिकल के कॉम्पीटिशन में सफलता को आसान बनाने का आश्वासन दिए।

छात्रों को संबोधित करते हुए गोल इन्स्टीट्यूट के ज्वाइंट डॉयरेक्टर डॉ. ममता  सिंह ने कहा कि मेडिकल प्रोफेशन में छात्रों को अपने हित के पहले अपने मरीजों का ख्याल रखना होता है। इसलिए छात्र इस नोबल प्रोफेशन में समाज सेवा को प्राथमिकता देते हुए आगे बढ़े। गोल इन्स्टीट्यूट के असिस्टेंट डायरेक्टर रंजय सिंह ने बताया की इस वर्ष नीट में 6156 छात्र क्वालिफाई किए। जिनमें से 712 छात्रों को सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमीशन मिलने की संभावना है। हमारी संस्थान अगले सत्र के लिए फाउण्डेशन, टारगेट, एचीवर एवं टेस्ट सिरिज के माध्यम से नीट के लिए छात्रों को और भी बेहतर सुविधाओं के साथ तैयारी करवाएगी।

समारोह में पुरस्कृत छात्रों में धर्मवीर कुमार यादव, (686 अंक) ओ॰बी॰सी॰ 90 रैंक एवं ऑल इंडिया जेनरल कैटेगरी में 426 रैंक, पुष्पम सुमन (685 अंक) ऑल इंडिया ओ॰बी॰सी 104 रैंक एवं ऑल इंडिया जैनरल कैटेगरी में 467 रैंक, विपुल कुमार ने (685 अंक) ऑल इंडिया ओ॰बी॰सी 117 रैक एवं ऑल इंडिया जेनरल कैटेगरी में 522, सत्यजीत कुमार 59 कैटेगरी रैंक एवं 647 जेनरल रैंक (682 मार्क्स), रौनीत बरन 149 कैटेगरी रैंक एवं 628 जेनरल रैंक (682 मार्क्स), प्रिया कुमारी 68 कैटेगरी रैंक एवं 765 जेनरल रैंक (680 मार्क्स), सलोनी प्रकाश 70 कैटेगरी रैंक एवं 787 जेनरल रैंक (680 मार्क्स), आकाश कुमार 223 कैटेगरी रैंक एवं 880 जेनरल रैंक (680 मार्क्स), प्राची कुमारी 780 जेनरल रैंक (680 मार्क्स), रवि रंजन 189 कैटेगरी रैंक एवं 760 जेनरल रैंक (680 मार्क्स), रितिका रानी 193 कैटेगरी रैंक एवं 768 जेनरल रैंक (680 मार्क्स), सन्नी कुमार साह 26 कैटेगरी रैंक के साथ सैंकड़ों अन्य छात्रें ने सफलता प्राप्त की है।

इस वर्ष बिहार एवं झारखण्ड मेडिकल के सफल छात्रों में ज्यादातर छात्र गोल इन्स्टीट्यूट से ही हैं। गोल विलेज के 100 प्रतिशत छात्र नीट क्वालीफाई किए। जिनमें से 90 प्रतिशत छात्रों को सरकारी मेडिकल कॉलेजों में दाखिला मिलने की संभावना है, एवं गोल चैलेंजर ग्रुप के 100 प्रतिशत छात्रों ने सफलता प्राप्त कर सफलता का बेमिशाल उदाहरण प्रस्तुत किया है। समारोह का संचालन गौरव प्रकाश, शैलेश कुमार, संजय आनन्द एवं गोल के आनन्द वत्स के द्वारा की गई।  जिसमें उन्होनें बताया कि इस वर्ष नीट परीक्षा में कोरोना काल में गोल के छात्रों ने विपरीत परिस्थिति में भी गोल विलेज (ब्वॉयज एवं गर्ल्स) में रहकर उम्दा प्रदर्शन किया है। इस प्रोग्राम में गोल इन्स्टीट्यूट से संजीव कुमार, अनिल कुमार, निरोज कुमार सिंह, विनित कुमार, गौरव सिंह, निरज मिश्रा, निकेत वर्धन एवं कई अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

Find Us on Facebook

Trending News