'गोल' के छात्रों ने एम्स के रिजल्ट में लहराया परचम, इस बार भी रहा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन...

'गोल' के छात्रों ने एम्स के रिजल्ट में लहराया परचम, इस बार भी रहा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन...

पटनाः गोल के छात्रों ने एक बार फिर से एम्स के रिजल्ट में परचम लहराया है।इस बार भी इस संस्थान का प्रदर्शन सर्वश्रेष्ठ रहा है।मेडिकल के लिए देश के सबसे कठिनतम परिक्षाओ में से एक  एम्स 2019 का रिजल्ट आने के साथ ही गोल के छात्रों नें एक बार फिर यह साबित कर दिया कि, मेडिकल में गोल बिहार और झारखण्ड का सर्वश्रेस्ठ संस्थान है।

एम्स में गोल फाउण्डेशन बैच से गोल चैलेंजर ग्रुप के दिव्यांशु ने 101वीं रैंक लाकर न केवल अपने परिवार का बल्कि गोल संस्थान को भी गौरवान्वित किया है। दिव्यांशु जो कि गोल चैलेजर ग्रुप के छात्र रहे हैं, ने अपनी सफलता का श्रेय अपने माता पिता को और खुद के द्वारा की गई कड़ी मेहनत लगन व संस्थान द्वारा दी जाने वाली एक्स्ट्रा सपोर्ट सिस्टम को दिया।

सर्वेंद्र प्रताप जो कि गोल फाउंडेशन बैच से 2 साल के क्लास रुम प्रोग्राम के स्टूडेन्ट हैं, इन्होंने गोल विलेज में रहते हुए तैयारी की थी। इन्होंने एम्स में 816 जेनरल रैंक प्राप्त किया है। वहीं संकेत कुमार (चैलेंजर ग्रुप) ने एम्स में   872 ऑल इंडिया जेनरल रैंक प्राप्त किया जो कि गोल एचीवर प्रोग्राम में रहे और इनका सेलेक्शन गोल चैलेजर ग्रुप में हुआ था ।इन्होंने गोल विलेज में रहते हुए इन्होंने तैयारी की थी।

गौतम कुमार ने जेनरल रैंक 956 वीं रैंक हासिल किया जो कि गोल फाउण्डेशन बैच के छात्र हैं। इन्होंने पहले ही प्रयास में एम्स में सफलता के साथ नीट में 32वीं जेनरल रैंक प्राप्त किया है। 

अब तक प्राप्त जानकारी के आधार पर गोल संस्थान से लगभग 53 छात्रों ने एम्स में सफलता प्राप्त की है।

गोल संस्थान के मैनेंजिंग डायरेक्टर श्री विपीन सिंह ने कहा कि इस वर्ष गोल इन्स्टीट्यूट के छात्रों ने पिछले वर्ष की तुलना में बेहतर प्रदर्शन करते हुए 53 छात्रों ने सफलता प्राप्त किये हैं। श्री सिंह ने कहा कि सफल छात्रों में अधिकतर छात्र गोल विलेज एवं एचीवर कैंपस के छात्र हैं

Find Us on Facebook

Trending News