गोल इन्स्टीट्यूट पटना ने टॉपर्स क्लब के साथ मिलाकर सेमिनार का किया आयोजन, नीट अभ्यर्थियों को दिए जरुरी टिप्स

गोल इन्स्टीट्यूट पटना ने टॉपर्स क्लब के साथ मिलाकर सेमिनार का किया आयोजन, नीट अभ्यर्थियों को दिए जरुरी टिप्स

PATNA. नीट 2023 की परीक्षा में महज अब 25 दिन शेष रह गए हैं मेडिकल की तैयारी कर रहे प्रत्येक छात्र का सपना मेडिकल कालेज में एडमीशन लेकर एक सफल डॉक्टर बनने का होता है और छात्र हर वक्त इस उलझन में पड़े रहते हैं कि तैयारी कैसे करें? और किन बातों का ध्यान रखें? छात्रों की इन्हीं समस्याओं के समाधन के लिए गोल इन्स्टीट्यूट पटना ने टॉपर्स क्लब के साथ मिलकर श्री कृष्ण मेमोरियल हॉल में सेमिनार का आयोजन किया। टॉपर्स क्लब दिल्ली एम्स में अध्ययनरत विद्यार्थियों का समूह है जो विभिन्न वर्षों में नीट परीक्षा में 1 से 50 ऑल इंडिया रैंक लाए हैं।

टॉपर्स क्लब के फाउण्डर आयूष खण्डेलवाल, नीट में ऑल इंडिया रैंक 1 लेकर एम्स दिल्ली में पढ़ रहे शोएब और नीट में ऑल इंडिया रैंक 5 लेकर एम्स दिल्ली में पढ़ रहे सिद्धार्थ ने छात्रों को सफलता पाने और टॉपर बनने के कई महत्वपूर्ण मंत्र दिए। कई छात्रों ने अपने उलझनों को इन टॉपर्स के साथ शेयर किया। जिसे टॉपर्स ने बहुत ही अच्छे तरीके से उनके उलझनों को सुलझाने का तरीका बताया।

छात्रों को संबोधित करते हुए गोल इन्स्टीट्यूट के मैनेजिंग डायरेक्टर बिपिन सिंह ने कहा कि अगर छात्र प्रत्येक दिन और प्रत्येक सप्ताह का लक्ष्य, निर्धारण कर प्रत्येक दिन अपने लक्ष्य को पाने की कोशिश करें तो मेडिकल के कॉम्पीटीशन में सफलता प्राप्त करना मुश्किल नहीं होगा। इसके साथ ही उन्होनें छात्रों के इन आखरी 25 दिन के लिए कुछ महत्वपूर्ण तथ्य भी साझा किए।

टॉपर्स ने कहा कि, रोज़ मॉक टेस्ट का अभ्यास करें। टेस्ट के बाद 1-2 घंटों में टेस्ट का एनालिसिस करें। रिकॉल नोट्स में गलत और छुटे हुए सवालों को नोट करें। इन नोट्स को बार-बार रिवीजन करें। रोजाना 6-7 घंटे की अच्छी नींद लें। हमेशा कूल और कॉन्फीडेन्ट रहें। तैयारी के दौरान सकारात्मक सोच रखें। योगा और प्राणायाम करें 

छात्रों को संबोधित करते हुए गोल के असिस्टेंट डायरेक्टर रंजय सिंह ने बताया कि छात्रों को कॉम्पीटीशन के नए पैटर्न को ध्यान में रखते हुए तैयारी करना आवश्यक है ताकि अपने प्रयास के अनुसार सर्वश्रेष्ठ रिजल्ट पा सके। उन्होंने कहा कि हमारी संस्थान छात्रों के लिए आल इंडिया टेस्ट, स्पाट टेस्ट, डेली प्रैक्टिस पेपर एवं स्कोर इन्हैन्सर प्रोग्राम के माध्यम से छात्रों का स्पीड एवं एक्युरेसी बढ़ाने का प्रयास कर रहा है। 

छात्रों के बीच कंकड़बाग सेंटर के संजीव ने भी अपने महत्वपूर्ण अनुभवों को साझा किया और बताया कि गोल इन्स्टीट्यूट छात्रों को सफलता दिलाने के लिए हर संभव मदद करने को प्रतिबद्ध है। कार्यक्रम का संचालन गोल इन्स्टीट्यूट के आर.एण्ड डी. हेड आनंद वत्स ने किया। उन्होनें छात्रों को नीट में सफल होने के तरीकों पर प्रकाश डाला।







Find Us on Facebook

Trending News