सोना लूटेरा गिरोह की साख नेपाल के कैसिनो तक, अंतरराष्ट्रीय सोना स्मगलर काले कारोबार के लिए आते हैं नेपाल

सोना लूटेरा गिरोह की साख नेपाल के कैसिनो तक, अंतरराष्ट्रीय सोना स्मगलर काले कारोबार के लिए आते हैं नेपाल

PATNA : राजधानी पटना के चर्चित एवं सबसे बड़ा सोना लूट की वारदात के बाद सर्राफा बाजार के व्यवसायियों में भय का माहौल व्याप्त है। आशियाना-दीघा रोड स्थित पंचवटी रत्नालय ज्वेलर्स में अपराधियों ने जिस तरह से दिनदहाड़े हथियार के बल पर 5 करोड़ रुपए की ज्वेलरी के साथ 13 लाख कैश लूट ले गए, उससे व्यवसायियों का सकते में आना लाजिमी है। मामले में जांच की आंच अब बिहार के बाहर सोना लूटने वाले गिरोह पर जा रहा है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कुख्यात सुबोध सिंह, विकास झा एवं मनीष सिंह गिरोह के बचे कुछ सदस्य जो उड़ीसा एवं पश्चिम बंगाल के आसनसोल के सोना लूटने वाले गिरोह से जुड़ गए है। अब बिहार पुलिस की शक की सुई इस इंटर स्टेट गिरोह पर जा रही है। जिस तरीके से वारदात को अंजाम दिया गया है, उससे स्पष्ट है कि इस खेल के माहिर खिलाड़ी ही इस वारदात को अंजाम दिया है। हालांकि बिहार एसटीएफ की टीम पूर्व में देश के सबसे बड़ा सोना लुटेरा सुबोध सिंह को मुठभेड़ के बाद पटना से गिरफ्तार तथा मनीष सिंह को मुठभेड़ के दौरान ढेर कर चुका है।

बेउर हाजीपुर एवम मुजफ्फरपुर के जेल में कुख्यातों से हो चुकी है पूछताछ

कुख्यात सोना लुटेरा मनीष सहित मो.अब्दुल अमन उर्फ तिवारी और अब्दुल इमाम उर्फ राजकुमार को मुठभेड़ के दौरान एसटीएफ ने ढेर कर दिया था। हालांकि इस मुठभेड़ के बाद विनोद कुमार सिंह उर्फ बाबू साहब बच्चू साह उर्फ डेंजर जो वैशाली का रहने वाला है साथ ही पटना निवासी मुकेश सिंह जो सोना लुटेरा गिरोह का सक्रिय सदस्य था को एसटीएफ ने गिरफ्तार कर लिया था। अपुष्ट सूत्रों का यह भी कहना है कि पटना के पंचवटी रत्नालाय ज्वेलर्स में दिनदहाड़े डकैती मामलें में बेउर जेल के अलावे मुजफ्फरपुर एवं वैशाली जेल में बन्द सोना लुटेरा गिरोह के कुख्यात सदस्यों से पुलिस पूछताछ की है।


नेपाल में मनीष का कैसिनो होने की बात चर्चाओं में रही थी।

वैशाली के बहलोलपुर दियारा में मुठभेड़ के दौरान कुख्यात सोना लुटेरा मनीष की हत्या के बाद उसकी काली कमाई से नेपाल में कैसिनो एवं बिहार में भट्ठा होने की बात सामने आई थी। पुलिस नेपाल स्थित कैसिनो पर भी पैनी नजर रख रही हैं। उसके कैसिनो को चला कौन रहा है और कहीं लूटे गए सोना उसी कैसिनो के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय बाजार की ओर रुख तो नहीं कर लिया है? तमाम बातों की कयास लगाए जा रहे हैं और जांच टीम अन्य बिंदुओं पर भी काम कर रही है। टीम की नजर कुख्यात सोना लुटेरा  सुबोध सिंह का आसनसोल जेल से बेउर जेल शिफ्ट होने के दौरान ट्रेनों में मुलाकातियों पर भी है। कहीं सोना लूट की वारदात आसनसोल और पटना के बीच में तो नहीं बनी थी।


लूट में पश्चिम बंगाल और नेपाल बॉर्डर साबित हो सकता है तुरुप का पता

सूत्र जो बता रहे हैं उनके मुताबिक पश्चिम बंगाल के आसनसोल में भी सीआईडी की टीम लगातार भ्रमणशील है, साथ ही बिहार के निकटवर्ती नेपाल सीमा से सटे बिहार के कुछ शहरों के अलावे नेपाल पर भी खासा नजर दौड़ाया जा रहा है । ज्ञात हो कि उत्तर बिहार के बड़े अपराधी गिरोह जो आए दिन घटनाओं को अंजाम देकर नेपाल में प्रवेश कर जाते हैं। 

अब कयास यह भी लगाया जा रहा है कि ठीक उसी प्रकार पटना के पंचवटी रत्नालाय ज्वेलर्स में डकैती करने वाला गिरोह भी उतर बिहार के रास्ते नेपाल में प्रवेश कर अंतरराष्ट्रीय बाजार में भेजने की तैयारी में है जिसका डीलिंग नेपाल के कैसिनो में किया जा सकता हैं। चुकी नेपाल में अंतरराष्ट्रीय सोना स्मगलरों का कैसिनो में मुलाकात मुलाकात होता है और इसी मुलाकात में सोना का क्रय विक्रय भी हो जाता है।

कुंदन की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News