खिलौना का 'पैसा' गटक गए सुशासन के अफसरः मोतिहारी के शिक्षा विभाग में भारी गड़बड़ी...26 लाख रू का वारा-न्यारा

खिलौना का 'पैसा' गटक गए सुशासन के अफसरः मोतिहारी के शिक्षा विभाग में भारी गड़बड़ी...26 लाख रू का वारा-न्यारा

MOTIHARI:  सुशासन की सरकार में लूट की छूट है । पदाधिकारी व कर्मी मिलकर दोनों हाथ से माल बटोर रहे। कार्रवाई के नाम पर जांच में ही फाइल दबे रहने से गड़बड़ी करने वाले पदाधिकारियो व कर्मियों का मनोबल गिरने की बजाए बढ़ रहा है। ताजा मामला का है। मोतिहारी जिला प्राथमिक शिक्षा व समग्र शिक्षा विभाग व चयनित जिला के 89 विद्यालय के एचएम मिलकर 26 लाख रुपया गटक गये। 

मोतिहारी के शिक्षा विभाग में भारी गड़बड़ी

विद्यालय परिसर में संचालित आंगनबाड़ी केंद्रों पर बच्चों के सशक्तिकरण व खुशनुमा माहौल बनाने के लिए जिला प्राथमिक शिक्षा द्वारा चयनित विद्यालयों में 30-30 हजार रू को दिया गया था. लेकिन नियम को ताक पर रखकर बिना सीडीपीओ कार्यालय से सम्पर्क किये विद्यालय के एचएम से राशि निकलवाकर जिला प्राथमिक शिक्षा एवम समग्र विभाग द्वारा बंदरबाट कर लिया गया । सूत्रों की मानेंं तो इस खेल में बीआरसी कार्यालय भी शामिल है । जिस स्कूल में आंगनबाड़ी केंद्र संचालित नहीं हो रही थी वहां भी राशि भेजकर जिला प्राथमिक समग्र शिक्षा कार्यालय व एचएम मिलकर सरकारी राशि गटक गए । वहीं आंगनबाड़ी केंद्र पर जाने वाले बच्चे खिलौना के लिए टुकुर टुकुर ताकते रह गए ।

आंगनबाड़ी केंद्र के बच्चों के सशक्तिकरण व खुशनुमा माहौल बनाने के लिए खिलौना,म्यूजियम ,वजन मापने वाला मशीन,बच्चों के लिए दरी, मैट ,दीवाल लेखन सहित सामग्री के लिए प्रति विद्यालय 30 -30 हज़ार की राशि भेजी गई थी। जिला प्राथमिक शिक्षा व समग्र विभाग व एचएम के मिली भगत से वैसे विद्यालयों में भी राशि भेजी गई जिस विद्यालय परिसर में आंगनबाड़ी केंद्र चलता ही नही है । वहीं एचएम से मिलकर जिला प्राथमिक शिक्षा व समग्र कार्यालय द्वारा राशि निकासी कर बंदरबाट करते हुए एक छोटा आलमीरा खरीद कर स्कूल में भेज राशि का बंदरबाट कर लिया गया। नियम के अनुसार विद्यालय एचएम को सीडीपीओ व सेविका से मिलकर आवश्यक सामान की सूची लेकर खरीदारी करनी थी । विभाग द्वारा राशि स्कूल शिक्षा समिति के खाते में भेजी गई थी । लेकिन सभी नियम को ताक पर रखकर न इसकी जनकारी सीडीपीओ को दी गई और न सेविका को । शिक्षा समिति के खाते से रुपया निकालकर एचएम सीधे जिला प्राथमिक शिक्षा एवम समग्र विभाग से जुड़े माफियाओं को दे दिए ।

पूर्वी चंपारण के अरेराज प्रखंड के चयनित 9 विद्यालय के एचएम से स्कूल में संचालित आंगनबाड़ी केन्द्र के लिए आवंटित राशि की जनकारी ली गई । जानकारी में बड़ी गड़बड़ी का खुलासा हुआ है । सूची में अंकित जीएमएस बहादुरपुर,यूएमएस हरदिया सहित कई विद्यालय में कोई आंगनबाड़ी केंद्र चलता ही नही है । उसके बाद भी जिला प्राथमिक व समग्र शिक्षा विभाग की मिलीभगत से विद्यालय विकास समिति के खाते में 30-30 हज़ार की राशि भेजकर बंदरबाट कर लिया गया ।आंगनबाड़ी केंद्र पर शिक्षा विभाग के द्वारा मिलने वाली इस सुविधा का न सीडीपीओ को जानकारी है नही सेविका को है। जीएमएस बहादुरपुर के एचएम महेश कुमार ने बताया कि स्कूल परिसर में कोई आंगनबाड़ी केंद्र नही चलता है। जिला से आंगनबाड़ी के लिए भेजी गई राशि को कार्यालय के द्वारा चेक ले लिया गया । वहीं एक आलमीरा व कुछ समान भेजा गया है । सूत्रों की माने तो सूची में अंकित 89 विद्यालयों में भेजी गई 26 लाख 70 हज़ार रुपया बंदरबाट कर लिया गया। आंगनबाड़ी केंद्र के बच्चे ताकते रह गए ।अगर इसकी जांच सूक्ष्म तरीके से कराया जाय तो भारी गड़बड़ी से इंकार नही किया जा सकता । वहीं समग्र शिक्षा के डीपीओ प्रहलाद कुमार गुप्ता ने बताया कि जो फाइल देखते है उनसे जनकारी ली जा रही है । अगर गड़बड़ी होगी तो दोषी पर करवाई की जाएगी

मोतिहारी से हिमांशु की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News