लोकेशन ऑफ करने के बाद भी आप पर है गूगल की पैनी नज़र

लोकेशन ऑफ करने के बाद भी आप पर है गूगल की पैनी नज़र

N4N desk: गूगल को ऐसे ही नहीं बाबा कहा जाता है, गूगल को सबकुछ पता होता है.आप कहा जा रहे है, आपको क्या अच्छा लगता है और आपको क्या चाहिए सबकुछ का रिकॉर्ड गूगल अपने पास रखता है. आपके कही भी आने-जाने का वह पूरा रिकॉर्ड रखती है. समाचार एजेंसी एसोसिएडेट प्रेस (एपी) की जांच-पड़ताल में यह बात सामने आई.

इस जांच में पता चला है कि एंड्रॉयड और आईफोन में गूगल की कई ऐसी सर्विसेज़ हैं जो पर्सनल सेटिंग्स का इस्तेमाल करने के बावजूद आपकी जियो स्टेटस को रिकार्ड में रखती है और इसकी पुष्टि भी हो चुकी है.

गूगल ज्यादातर मामलों में आपकी लोकेशन से जुड़ी जानकारी का इस्तेमाल करने के लिए पहले मंजूरी मांगता है. और मंजूरी के बाद आपकी इनफार्मेशन लेता है. गूगल मैप जैसे ऐप को अगर आप नेविगेशन के लिए इस्तेमाल करते हैं तो वह आपकी लोकेशन मांगता है. अगर आप इसकी इजाजत दे देते हैं तो गूगल मैप आपको टाइमलाइन में हिस्ट्री दिखाने लगता है.

इस तरह लोकेशन शेयर करना आपके प्राइवेसी के लिए खतरनाक साबित होता है. इसलिए कंपनी ने लोकेशन का पूरा ब्योरा उपलब्ध होने को 'बंद' करने का ऑपशन दिया है. गूगल का कहना है कि आप अपनी लोकेशन सेटिंग को कभी भी बंद कर सकते हैं, जिससे लोकेशन स्टोर होना बंद हो जाएगी. 

हालांकि, जांच में पता चला कि यह सच नहीं है. लोकेशन हिस्ट्री बंद करने के बावजूद भी कुछ गूगल ऐप बिना आपकी मंजूरी के खुद ही आपकी लोकेशन का इनफार्मेशन ले लेती है. उदाहरण के लिए, जब आप कहीं भी मैप खोलते हैं तो गूगल उस जगह का स्नैपशॉट स्टोर कर लेता है. इसी तरह एंड्रायड फोन में मौसम की जानकारी देने वाली सेवा भी आपकी लोकेशन स्टोर कर लेती है.

इसके अलावा 'चॉकलेट चिप कुकीज़' या 'किड्स साइंस किट्स' जैसे कुछ सर्च भी हैं, जो आपके अक्षांश और देशांतर को नोट करते हैं और आपके गूगल एकाउंट में सेव कर लेते हैं. हालांकि, इन सर्च को लोकेशन से कोई लेना देना नहीं है.

Find Us on Facebook

Trending News