मोतिहारी रजिस्ट्री ऑफिस में बड़ा खेल, अधिकारी की मिलीभगत से 8 बाहरी लोग अभिलेखागार में करते हैं काम,जांच में खुलासा...

मोतिहारी रजिस्ट्री ऑफिस में बड़ा खेल, अधिकारी की मिलीभगत से 8 बाहरी लोग अभिलेखागार में करते हैं काम,जांच में खुलासा...

MOTIHARI: मोतिहारी के जिला अवर निबंधक कार्यालय में फर्जीवाड़ा आम बात है। इस दफ्तर में हर नियम विरूद्ध काम संभव है। सरकारी कर्मियों-अधिकारियों की मिलीभगत से मोतिहारी रजिस्ट्री कार्यालय में आप कुछ भी करा सकते हैं। हद तो तब हो गई जब रजिस्ट्री दफ्तर के अभिलेखागार में रखा कागजात भी सुरक्षित नहीं। आखिर सुरक्षित रहे भी तो कैसे ?वहां तो बाहरी लोगों का कब्जा होता है। अभिलेखागार में हो रही गड़बड़ी की पोल खुली तो अपने आप को फंसने से बचने के लिए जिला अवर निबंधक ने थाने में अज्ञात पर केस दर्ज करा दिया। पुलिस ने जब जांच शुरू की तो वह भी भौचक रह गई। 

मामला फंसता देख अवर निबंधक ने कराया था केस

मोतिहारी के जिला अवर निबंधक विनय कुमार प्रसाद ने 5 फरवरी 2021 को नगर थाना में केस कराया था।  आवेदन में उल्लेख था कि अभिलेखागार में संधारित अभिलेख पुस्तिका संख्या-1, जिल्द संख्या 86,पृष्ठ संख्या 214-16, दस्तावेज संख्या 13954, वर्ष 1953 में छेड़छाड़ प्रतीत होता है। जिला अवर निबंधक ने मोतिहारी नगर थाने के थानेदार को लिखे पत्र में कहा कि भूअर साह द्वारा की दस्तावेज प्रस्तुत कर सच्चे प्रतिलिपि की छाया प्रति प्रस्तुत कर सत्यता जांच का आग्रह किया. उनके आवेदन पर जब जांच किया गया तो पाया गया कि प्रस्तुत छाया प्रति के कुछ पृष्ठ पर मेरा एवं कार्यालय कर्मी के हस्ताक्षर का अनुकरण किया गया प्रतीत हुआ तथा कार्यालय के मोहर में भी भिन्नता पाई गई. कार्यालय में संधारित दस्तावेज के मूल अभिलेखों को नंगी आंखों से देखने पर उसमें छेड़छाड़ किया जाना परिलक्षित हुआ. लिहाजा दस्तावेज से छेड़छाड़ करने के मामले में अज्ञात व्यक्ति पर प्राथमिकी दर्ज कर उचित कानूनी कार्रवाई करने की कृपा की जाए.

मोतिहारी पुलिस की जांच में मिले बाहरी लोग

इसके बाद मोतिहारी के नगर थाने की पुलिस ने जब जांच शुरू की और पूछताछ की तो पता चला कि विभागीय अधिकारियों की सांठगांठ से बाहरी व्यक्ति काम करते हैं.जांच में यह पाया गया कि रजिस्ट्री दफ्तर के अभिलेखागार में बजाप्ता 8 बाहरी व्यक्ति काम करते पाये गए। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जब इस संबंध में जिला अवर निबंधन कार्यालय के कर्मी और रजिस्ट्रार से पूछा गया तो पुलिस को कोई माकूल जवाब नहीं मिला। जांच अधिकारी ने इन तमाम बातों का उल्लेख किया है। जांच में बजाप्ता 8 बाहरी लोगों के नाम भी मिले हैं जिन्हें अवैध रूप से अभिलेखागार में रखा गया है। पुलिस ने उन सभी लोगों के नाम का उल्लेख भी किया है। पुलिस की जांच में जिन 8 अवैध लोगों के नाम मिले हैं उनमें-मन्नान,करमुला,नन्दू शाह,सोनू,अंचित, अबधेश भगत और  पूर्व बड़ा बाबू का भगिना बंटी शामिल है। 

Find Us on Facebook

Trending News