सरकार की लापरवाही : लॉन टेनिस खिलाड़ी को अमेरिका से मिली मदद, सहयोग करने से झारखण्ड ने किया इंकार

सरकार की लापरवाही : लॉन टेनिस खिलाड़ी को अमेरिका से मिली मदद, सहयोग करने से झारखण्ड ने किया इंकार

 BOKARO : राज्य के खेल मंत्री के गृह क्षेत्र के राष्ट्रीय लॉन टेनिस खिलाड़ी दर दर की ठोकरें खा रही हैं. दरअसल इस खिलाड़ी को अपने प्रतिभा को निखारने के लिए अमेरिका से 80 प्रतिशत स्कॉलरशिप दिया गया है. लेकिन उसे कुल खर्च का 20 प्रतिशत खुद वहन करना है.  खिलाड़ी की आर्थिक हालात ऐसे नहीं है कि वह इस खर्च को वहन कर सके. 

इस मामले को लेकर खिलाड़ी बीते दो महीने से राज्य सरकार के खेल विभाग और खेलमंत्री से सहायता के लिए भटकती फिर रही हैं. जब उसकी उम्मीद खत्म होती दिख रही है तो बाध्य होकर मंत्री के चंदनकियारी स्थित आवासीय कार्यालय के समक्ष अनिश्चित कालीन धरने पर परिवार समेत बैठ गयी है. चंदनकियारी प्रखंड के बरमसिया गांव की रहने वाली मोनालिसा चक्रवर्ती विधवा मां की एक मात्र सहारा है. महज सात वर्ष की उम्र में उसके सर से पिता का साया उठ गया. मोनालिसा बरमसिया से ही मैट्रिक की पढ़ाई की. इसके बाद उच्च शिक्षा पाने के लिए रांची चली गयी. 

वहाँ लॉन टेनिस को अपना लक्ष्य बनाकर खेल की दुनिया में कदम रखा. इसके बाद वह प्रदेशस्तरीय और राष्ट्रीय खेल प्रतियोगितायों का हिस्सा बनी. उसे बेहतर प्रदर्शन के लिए कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया. भारत सरकार ने भले ही इस प्रतिमा को नही समझा. लेकिन अमेरिका ने इसे अपने देश से 80 प्रतिशत स्कॉलरशिप देकर प्रशिक्षण के लिए आमंत्रित किया है. आज 20 प्रतिशत सहायता नही होने के कारण दर दर की ठोकरें खा रही हैं. खेल मंत्रालय और खेलमंत्री का चक्कर काटती रही. उसे मदद का आश्वासन मिला. 

लेकिन सहायता करने से इंकार कर दिया गया. इस दौरान कई कागजात की मांग की गई. खिलाड़ी ने उनके मांगों के अनुरूप कागजात भी उपलब्ध कराई. जब सभी कागजात दिया गया तो खेल मंत्री और विभाग के निदेशक ने यह कहते हुए सहायता देने से इंकार कर दिया कि खिलाड़ी को सहायता देने से राज्य को क्या लाभ होगा. खिलाड़ी की माने तो उसे चंदनकियारी का मानने से भी मना कर दिया गया. अब परेशान होकर न्याय के लिए अनिश्चित कालीन धरने पर बैठ गई है. 

बोकारो से मृत्युंजय की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News