पटना में चित्रगुप्त पूजा एवं सामूहिक विसर्जन की भव्य तैयारी, बीस से ज्यादा स्थानों पर होंगी मूर्तियां स्थापित

पटना में चित्रगुप्त पूजा एवं सामूहिक विसर्जन की भव्य तैयारी, बीस से ज्यादा स्थानों पर होंगी मूर्तियां स्थापित

पटना. आगामी 27 अक्टूबर को श्री चित्रगुप्त आदि मंदिर में भव्य चित्रगुप्त पूजा और 28 अक्टूबर को सामूहिक विसर्जन की तैयारियों चल रही है। पटना महानगर की साठ से अधिक पूजा समितियों की विशाल बैठक के बाद चित्रगुप्त आदि मंदिर प्रबंधक समिति के अध्यक्ष और पूर्व सांसद आरके सिन्हा ने कहा है कि श्री चित्रगुप्त आदि मंदिर में सामूहिक विसर्जन की कल्पना स्वर्गीय रविनंदन सहाय, मैंने, डॉ. निर्मल शंकर श्रीवास्तव और योगेंद्र नारायण मल्लिक ने मिलकर की थी। 

उन्होंने कहा कि दौड़-भाग और समन्वय के लिए सुजीत वर्मा को समिति का संयोजक बनाया गया था। उस समय मेरे अतिरिक्त अन्य सभी लोग अखिल भारतीय कायस्थ महासभा (अभाकाम) के महत्वपूर्ण पदाधिकारी थे। लेकिन, यह मात्र जन जागरण और सामाजिक संगठन हेतु एक सामूहिक विसर्जन का प्रयास था, जिसमें अखिल भारतीय कायस्थ महासभा संगठन के रूप में कहीं शामिल नहीं है। लेकिन उनके अनेकों पदाधिकारी इस अभियान में जरूर शामिल है। कल भी जो बैठक हुई, उसमें अभाकाम के अनेकों पदाधिकारी शामिल थे। सुजीत वर्मा जी को शुरू से संजोयक बनाया गया था, आज भी वही संयोजक है।

आरके सिन्हा ने कहा कि अब बहुत सारे नये उत्साही लोग सामूहिक विसर्जन में भाग लेना चाह रहे हैं और कई बैठके भी अपने स्तर पर आयोजित कर रहे हैं। उन सभी का हार्दिक स्वागत है। किंतु सामूहिक विसर्जन के बाद सांस्कृतिक कार्यक्रम और भाई भोज की भी व्यवस्था होती है, जो आदि मंदिर के पदाधिकारीगण करते हैं। इसलिए जो भी इसमें शामिल होने के इच्छुक है, वो आसानी से शामिल हो सकते हैं, परंतु किसी भी तरह की नई कमिटी बनाना और भ्रम फैलाना समाज और संगठन दोनों के लिए हितकारी नहीं है। ऐसा प्रयास करने वालों का सामाजिक बहिष्कार होना चाहिए और जो मिलजुल कर काम करना चाहते हैं, उनका हार्दिक स्वागत है।

मंदिर के कार्यकारी अध्यक्ष और अभाकाम नेता डॉ. निर्मल शंकर श्रीवास्तव ने बताया कि आज सहाय सदन के प्रांगण में हुई बैठक में 500 से भी ज्यादा लोग शामिल हुए। इससे लगता है कि स्व. रविनंदन सहाय (अमर भैया) का सूक्ष्म और परोक्ष आशीर्वाद हमें प्राप्त हो रहा है। संयोजक सुजीत वर्मा ने सभा में घोषणा की और बताया कि इस वर्ष पटना महानगर में 20 नई पूजा समिति का गठन हुआ है, जहां इस बार नई मूर्तियां स्थापित होंगी।


Find Us on Facebook

Trending News