GURUGRAM NEWS: बच्ची चुप नहीं हो रही थी, गुस्से में केयरटेकर ने किया कुछ ऐसा कि पुलिस तक पहुंचा मामला

GURUGRAM NEWS: बच्ची चुप नहीं हो रही थी, गुस्से में केयरटेकर ने किया कुछ ऐसा कि पुलिस तक पहुंचा मामला

DESK: आजकल वर्किंग कपल का चलन काफी बढ़ गया है. बड़े शहरों में आमूमन पति पत्नी दोनों ही काम करते हैं, जिस वजह से बच्चे को संभालने में समस्या आती है. लोगों ने इसका उपाय केयरटेकर के रूप में ढूंढा है. महानगरों में ज्यादातर लोग अपने बच्चों को केयरटेकर के भरोसे छोड़कर जाते हैं. आम तौर पर महिलाओं को ही केयरटेकर के रूप में रखा जाता है जिससे बच्चे उनसे जल्दी घुल मिल जाएं. फिलहाल जो खबर आई है, वो आपको हैरान- परेशान कर सकती है और डरा भी सकती है. गुरूग्राम के सेक्टर-56 स्थित अलकनंदा अपार्टमेंट में केयरटेकर ने कुछ ऐसा किया कि पूरे अपार्टमेंट के लोग सकते में है.

बुधवार को दंपति बच्ची को घर में छोड़कर बाहर सामान खरीदने गए थे. इसी बीच 13 महीने की मासूम बच्ची रोने लगी. तभी केयरटेकर उसे गोद में लेकर चुप करान लगी मगर वो चुप नहीं हो रही थी. इतनी सी बात पर केयरटेकर ने बच्ची को पटक दिया जिससे साल भर की मासूम की पसली की चार हड्डियां टूट गईं. साथ ही उसकी किडनी, लीवर और अन्य अंगों पर भी चोट लगी है. दंपति की शिकायत पर केयरटेकर के खिलाफ हत्या के प्रयास और मारपीट के आरोप में एफआईआर दर्ज की गई है. पूरे मामले का एक और पहलू यह भी है कि वह केयरटेकर नाबालिग है, उसकी उम्र महज 15 साल है. इसी को लेकर पुलिस ने बच्ची के पिता पर भी नाबालिग को नौकरी पर रखने का केस दर्ज किया गया है.

बच्ची के पिता निखिल भाटिया ने पुलिस को जो जानकारी दी उसके मुताबिक उन्होनें 13 महीने की बेटी की देखभाल के लिए सबीना नाम की नाबालिग लड़की को काम पर रखा था. सबीना पश्चिम बंगाल के उत्तरी दिनाजपुर की रहने वाली है. उसे तीन महीने पहले ही 9 हजार रुपए प्रति महीने की एवज पर काम पर रखा गया था. बुधवार को जब वह बाजार से घर लौटे तो बच्ची काफी जोर जोर से रो रही थी. उसे पास के अस्पताल ले जाया गया जहां उसकी नाजुक हालत देख उसे रेफर कर दिया गया. दूसरे अस्पताल में दंपति को बच्ची के साथ हुई भयावहता का पता चला. डॉक्टरों ने बताया कि बच्ची की चार पसलियां टूटी हुई हैं. साथ ही उसकी किडनी, लीवर एवं अन्य अंगों पर भी चोट है. बच्ची को फिलहाल वेंटिलेटर पर रखा गया है.

शिकायत के बाद नाबालिग लड़की को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है. लड़की का बयान जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड के सामने दर्ज कराया गया है. साथ ही उसकी काउंसलिंग भी कराई जा रही है. घटना को लेकर सबीना ने चाइल्ड वेलफेयर कमिटी को बताया कि बच्ची चुप नहीं हो रही थी इसलिए उसे गुस्से में पटक दिया.


Find Us on Facebook

Trending News