दलबदलुओं को चप्पल से पीटने की बात करने वाले हार्दिक पटेल हुए भाजपा में शामिल, पार्टी में शामिल होने को बताया घर वापसी तो ट्विटर पर हुए ट्रोल

दलबदलुओं को चप्पल से पीटने की बात करने वाले हार्दिक पटेल हुए भाजपा में शामिल, पार्टी में शामिल होने को बताया घर वापसी तो ट्विटर पर हुए ट्रोल

DESK. पाटीदार नेता हार्दिक पटेल बृहस्पतिवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हो गए। कुछ दिन पहले ही उन्होंने कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दिया था। भाजपा की गुजरात इकाई के अध्यक्ष सीआर पाटिल और राज्य के पूर्व उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने पार्टी में उनका स्वागत किया। 

भाजपा में शामिल होने से पहले पटेल ने ट्वीट किया था, ‘राष्ट्रहित, प्रदेशहित, जनहित एवं समाज हित की भावनाओं के साथ आज से नया अध्याय शुरू करने जा रहा हूं। भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में चल रहे राष्ट्र सेवा के भगीरथ कार्य में छोटा सा सिपाही बनकर काम करुंगा।' पटेल (28) ने 2015 में पाटीदार समुदाय के लिए आरक्षण की मांग को लेकर एक आंदोलन का नेतृत्व किया था। पटेल 2019 में कांग्रेस में शामिल हो गए थे। 

पटेल ने 18 मई को कांग्रेस से इस्तीफा देने से पहले पार्टी की अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखे एक पत्र में दावा किया था कि पार्टी ने देश में कुछ महत्वपूर्ण मुद्दों पर केवल ‘एक अवरोधक की भूमिका निभाई' है और वह ‘हर चीज का केवल विरोध करने तक ही सिमट गई' है। वहीं भाजपा में शामिल होने के लिए हार्दिक एक रोड शो के साथ निकले जिसमें हजारों की संख्या में लोग शामिल हुए। हार्दिक ने 12.39 के विजय मुहूर्त में कमल थामा। इस दौरान सीएम भूपेंद्र पटेल और प्रदेश अध्यक्ष सीआर पाटिल मौजूद रहे।

बीजेपी में शामिल होने के बाद हार्दिक पटेल ने कहा कि मैं भारतीय जनता पार्टी में शामिल नहीं हुआ हूं। यह तो मेरी घर वापसी है। मैंने किसी पद की लालच में पार्टी नहीं बदली। न ही मैंने किसी प्रकार की कोई डिमांड की है। मैं बीजेपी में छोटे कार्यकर्ता की तरह काम करने आया हूं। मैं काम करना चाहता हूं। पिछली पार्टी कांग्रेस में मैंने काम मांगा था, नहीं मिला तो छोड़ना पड़ा। यहां भी काम करने आया हूं।

हालांकि भाजपा में शामिल होने के बाद हार्दिक अपने पुराने ट्विट के कारण खूब ट्रोल हो रहे हैं. सोशल मीडिया पर हार्दिक पटेल का सबसे अधिक वह ट्वीट वायरल हो रहा है। जिसमें उन्होंने कहा था कि अगर सुबह का देशद्रोही, शाम को भाजपा से जुड़ जाए तो उसे देशभक्त कहते हैं। वहीं उन्होंने एक दूसरे ट्वीट में यह भी कहा था कि जनता द्वारा चुने गए प्रतिनिधि जनता से द्रोह कर अपने स्वार्थ के लिए पार्टी बदलते हैं, तब ऐसे स्वार्थी नेताओं को चौराहे पर खड़ा कर चप्पल से पीटना चाहिए।


Find Us on Facebook

Trending News