चिड़ियाघर में हाथी को शांत कराने के लिए सुनाई जा रही शहनाई और बांसुरी, पढ़िए पूरी खबर

चिड़ियाघर में हाथी को शांत कराने के लिए सुनाई जा रही शहनाई और बांसुरी, पढ़िए पूरी खबर

DESK : इंदौर के चिड़ियाघर में एक हाथी मोती ने कर्मियों को परेशानी में डाल दिया. इस साल दो बार हाथी ने गुस्से में आकर अपने ही बाड़े को तहस-नहस कर दिया. हाथी को संभालना चिड़ियाघर प्रबंधन के लिए चुनौती भरा रहा. हालांकि प्रबन्धन की ओर से उसे काबू में करने के कई प्रयोग किये गए. 

लेकिन उसे शांत करने के लिए अब 3 से 4 घंटे तक संतूर, बांसुरी और शहनाई की धुन सुनाई जा रही है. इसका उस पर सकारात्मक प्रभाव दिखाई  दे रहा है. पिछले कुछ दिनों में उसका उग्र स्वभाव नजर नहीं आया है.  

बताया जा रहा है की हाथी मोती बचपन से ही इंदौर के चिड़ियाघर में है. उसे लंबे समय तक जंजीरों से बांधकर रखा गया. इस दौरान मोती की देखभाल करना चिड़ियाघर प्रबंधन के लिए काफी चुनौती भरा रहा. इस साल भी दो बार (7 जनवरी और 23 अगस्त) को गुस्से में आकर मोती ने बाड़े को तहस-नहस कर दिया. अब गुस्सैल हाथी मोती को 25 अगस्त से ये म्यूजिक थेरेपी दी जा रही है. 

उसके बाड़े में लगाए गए म्यूजिक सिस्टम से मोती को हर दिन दोपहर में तीन से चार घंटे तक बिस्मिल्ला खान की शहनाई, पंडित हरिप्रसाद चौरसिया की बांसुरी के साथ ही संतूरवादन भी सुनाया जा रहा है. इससे उसका गुस्सा शांत होने लगा है. उसका चिड़चिड़ापन कम हो रहा है. उसने बेवजह चिंघाड़ना भी बंद कर दिया है.

Find Us on Facebook

Trending News