सरकारी स्कूलों में प्रधान शिक्षक- प्रधानाध्यापक की बहाली: निजी स्कूलों के टीचर भी कर सकते हैं आवेदन,जानें योग्यता

सरकारी स्कूलों में प्रधान शिक्षक- प्रधानाध्यापक की बहाली: निजी स्कूलों के टीचर भी कर सकते हैं आवेदन,जानें योग्यता

PATNA : सरकारी स्कूलों में 45892 प्रधान शिक्षक - हेड मास्टरों की भर्ती में निजी स्कूलों के शिक्षक भी आवेदन कर सकेंगे. मंगलवार को प्रधान शिक्षक और प्रधानाध्यापक के रिक्त पदों को भरने के लिए सरकार ने नई नियमावली और सेवा शर्त पर मुहर लगा दी. 

प्रधान शिक्षक और प्रधानाध्यापक की नियुक्ति के लिए बीपीएससी द्वारा परीक्षा आयोजित की जाएगी। जिसमें अलग-अलग सौ सौ अंकों के वस्तुनिष्ठ प्रश्न पूछे जाएंगे। सिर्फ नियोजित शिक्षक ही प्रधान शिक्षक के लिए योग्य माने जाएंगे। 6 से 8 तक के स्नातक ग्रेड शिक्षक जिसकी सेवा सम्पुष्ट है वह ही आवेदन कर सकते हैं।वहीं कक्षा 1 से 5 तक के वैसे नियोजित शिक्षक जिनकी सेवा न्यूनतम 8 साल की हो गई हो।

 नए उच्च माध्यमिक स्कूलों में प्रधानाध्यापक पद के लिए सरकारी स्कूलों में जिला परिषद और नगर निकायों के माध्यम से नियुक्त प्लस टू के शिक्षक जिन्हें 8 साल पढ़ाने का अनुभव है, आवेदन कर सकेंगे। वहीं कक्षा 9 और 10 के लिए जो शिक्षक पोस्ट ग्रेजुएट हैं और 10 साल पढ़ाने का अनुभव है वह भी योग्य माने जाएंगे। निजी स्कूल शिक्षकों के लिए आईसीएसई सीबीएसई या बिहार बोर्ड से मान्यता प्राप्त स्कूलों के वैसे शिक्षक जिनके पास शैक्षणिक और प्रशिक्षण संबंधी डिग्री है और प्लस टू में 10 साल या 9 नौवीं क्लास व दसवीं क्लास में पढ़ाने का अनुभव 12 साल का है, वह योग्य माने जाएंगे।


अब परीक्षा के माध्यम से होगी बहाली

बिहार कैबिनेट ने मंगलवार को राजकीयकृत प्राथमिक विद्यालय प्रधान शिक्षक नियुक्ति, स्थानांतरण, अनुशासनिक कार्रवाई एवं सेवा शर्त नियमावली -2021 की स्वीकृति दे दी है. वहीं बिहार राज्य उच्च माध्यमिक विद्यालय प्रधानाध्यापक नियुक्ति, स्थानांतरण, अनुशासनिक कार्रवाई एवं सेवा शर्त नियमावली- 2021 की भी स्वीकृति दी गई है. इसके तहत अब प्राथमिक विद्यालयों में प्रधान शिक्षक व हाईस्कूलों एवं प्ल्स-2 में प्रधानाध्यापक की नियुक्ति परीक्षा के माध्यम से होगी। बिहार लोक सेवा आयोग के माध्यम से प्रधान शिक्षक और प्रधानाध्यापक का पद भरा जायेगा। प्रधान शिक्षक का पद जिला स्तरीय होगा वहीं प्रधानाध्यापक का पद प्रमंडलीय स्तर का होगा। इनका स्थानांतरण भी किया जा सकता है। 15 अगस्त को गांधी मैदान से सीएम नीतीश ने जो घोषणा की थी उस पर कैबिनेट ने मुहर लगा दी। कैबिनेट विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार ने बताय़ा कि बिहार में हाईस्कूल और प्लस-2 विद्यालयों की कुल संख्या 5334 है। वहीं प्राइमरी स्कूलों की संख्या 40 हजार 558 है।

Find Us on Facebook

Trending News