हेपटाइटिस बी के मरीज ज्यादा बरतें सावधानी ,आसानी से हो सकता है कोरोना का संक्रमण

हेपटाइटिस बी के मरीज ज्यादा बरतें सावधानी ,आसानी से हो सकता है कोरोना का संक्रमण

DESK:कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है और आये दिन इसको लेकर कई तरह के शोध किये जा रहे है .अब ये बताया जा रहा है कि हेपेटाइटिस-बी के मरीजों को कोरोना वायरस आसानी से शिकार बना सकता है लिहाजा हेपेटाइटिस बी संक्रमित खास सावधानी बरतें और जरा सी चूक आपकी जान  को जोखिम में डाल सकती है। 

आज हेपेटाइटिस जागरूकता दिवस है और लोहिया संस्थान में गेस्ट्रोसर्जरी विभागाध्यक्ष डॉ. अंशुमान पांडेय के मुताबिक हेपेटाइटिस बी वायरस लिवर पर हमला करता है इसमें लिवर कमजोर होता है या फिर खराब होने लगता है.बुखार, थकान व भूख न लगने जैसी तमाम परेशानी होती है.मरीज में रोगों से लड़ने की ताकत कम हो जाती है.नतीजतन कोई भी संक्रमण मरीज पर आसानी से हमला कर सकता है.

मास्क लगाकर ही निकलें

डॉ. के मुताबिक हेपेटाइटिस-बी के मरीज बिना जरूरत घर से न निकले.बहुत जरूरी हो तो मास्क लगाकर ही घर से निकलें.सोशल डिस्टैंसिंग का पालन करें. डायटीशियन या डॉक्टर की सलाह पर पौष्टिक भोजन लें, ताकि शरीर में रोगों से लड़ने की ताकत बनी रहे.

छूने से नहीं फैलती बीमारी

केजीएमयू गेस्ट्रोइंट्रोलॉजी विभागाध्यक्ष डॉ. सुमित रूंगटा के मुताबिक हेपेटाइटिस-बी तेजी से फैल रही है और  इसको लेकर कई तरह की गलतफहमी भी हैं, यह एक संक्रामक रोग है सिर्फ छूने से नहीं फैलता है. हेपेटाइटिस में लिवर में सूजन भी आ जाती है.

हेपेटाइटिस से बचाव

डॉ. सुमित रूंगटा के मुताबिक बारिश के मौसम में हेपेटाइटिस के फैलने का खतरा  और भी बढ़ जाता है.लिहाजा इस मौसम में ज्यादा तली-भुनी, मसालेदार, मांसाहारी और भारी खाद्य पदार्थों के सेवन से बचें.शाकाहारी भोजन, हरी पत्तेदार सब्जियां, विटमिन-सी युक्त फल, पपीता, नारियल पानी, सूखे खजूर, किशमिश, बादाम और इलायची का भरपूर मात्रा में सेवन करना चाहिए.

हेपेटाइटिस के लक्षण

-बार-बार बुखार

-आंख, मांसपेशियों व जोड़ों में दर्द रहना

-अपच व उल्टियां होना

-त्वचा में पीलापन

-पीलिया

-दस्त

-भूख न लगना

-पेट में दर्द व सूजन

-थकान

-सिरदर्द

-चिड़चिड़ापन।

बरतें सावधानियां

-संक्रमित व्यक्ति के इस्तेमाल की चीजें रेजर, कैंची जैसी नुकीली वस्तुएं अलग रखें

-तौलिये और कपड़े आदि अलग रखें।

-मरीज को अगर कोई घाव हो गया हो तो उसे खुला न छोड़ें।

-संक्रमित व्यक्ति का ब्रश अलग रखें।

इसे भी जाने

-हेपेटाइटिस ए और ई

यह दूषित पानी पीनी से होता है। दूषित भोजन करने से भी फैलता है।

-हेपेटाइटिस बी और सी

ये संक्रमित खून चढ़ाने, संक्रमित सुईं-सीरिंज के प्रयोग, असुरक्षित यौन संबंध और मां से शिशु में फैलता है।

-हेपेटाइटिस डी

जो हेपेटाइटिस बी से संक्रमित होते हैं, वे हेपेटाइटिस डी से भी संक्रमित हो सकते हैं।

Find Us on Facebook

Trending News