होम ट्यूटर बनाने के नाम पर एनजीओ संचालकों ने महिलाओं से ठगे 50 लाख रूपये, दो को पुलिस ने हिरासत में लिया

होम ट्यूटर बनाने के नाम पर एनजीओ संचालकों ने महिलाओं से ठगे 50 लाख रूपये, दो को पुलिस ने हिरासत में लिया

GAYA : बोधगया में आए दिन एक से बढकर एक ठगी करने वाले गिरोह सामने आते रहा है। यहां की भोली भाली जनता प्रलोभन मे आकर ठगी का शिकार होती रही है। इसी कड़ी में बोधगया में होम ट्यूटर की भर्ती के नाम पर 50 लाख रुपए के ठगी करने का मामला सामने आया है। मामले को गंभीरता से लेते पुलिस जांच में जुट गई। ठगी से जुड़े दो लोगों को हिरासत में भी लिया गया है और पूछ ताछ कि जा रही है। 

केरल के जेएसओ एनजीओ के बैनर तले महिलाओं और छात्राओं को होम ट्यूटर की भर्ती के नाम पर ठगी की गई है। करीब 1400 से ज्यादा महिलाओं से करीब 50 लाख रुपए से ज्यादा का ठगी किया गया है। बुधवार को जब मालूम चला तो ठगी गई छात्राओं और महिलाओं ने मिल कर दो आरोपितों को पकड़कर  मारपीट करने की योजना बनाई। लेकिन मौके पर पुलिस पहुंच गई। ठगी की शिकार हुई अभ्यर्थियों ने बुधवार को बोधगया के भागलपुर मोड़ स्थित रुद्राक्षा वेलफेयर ट्रस्ट कार्यालय के बाहर जमकर हंगामा किया। 

ठगी की शिकार हुई जया कुमारी, ममता कुमारी, आरती कुमारी ने बताया कि हम लोगों को होम ट्यूटर की भर्ती कराने का प्रलोभन देकर सभी से चार चार हजार की वसूली की गई। कार्यालय की इंचार्ज दंडीबाग निवासी विभा रानी व खटकाचक निवासी अकाउंट ऑफिसर सुजीत कुमार के बातों में हम लोग फंस गए। हम सभी अभ्यर्थियों को अपने घर पर 6-6 बच्चों को पढ़ाना था। इसके एवज में प्रत्येक माह ₹7000 वेतन देने का आश्वासन दिया गया था। लगभग 1400 से अधिक अभ्यर्थियों से पैसे की वसूली की गई है। हालाकि इस घटना मे पैसे देने वालो की भी गलती है। यहां किसी भी तरह की संस्था आती है,और यहां के लोगो से रुपए ठग कर चली जाती है। बाद ने ये लोग पुलिस प्रशासन को परेशान करना शुरू करते है। जनता को भी चाहिए कि किसी भी एन जी ओ में पैसा देने के पहले उसे अच्छी तरह परख लें।


गया से संतोष की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News