'नीतीश' की नजरबंद यात्रा ! यात्रा वाले जिले में शिक्षक अभ्यर्थियों को किया जा रहा नजरबंद, BJP बोली- लोकतंत्र का गला घोंट रहे CM

'नीतीश' की नजरबंद यात्रा ! यात्रा वाले जिले में शिक्षक अभ्यर्थियों को किया जा रहा नजरबंद, BJP बोली- लोकतंत्र का गला घोंट रहे CM

PATNA: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 5 जनवरी से समाधान यात्रा पर हैं. पश्चिम चंपारण से नीतीश कुमार की यह यात्रा शुरू हुई। सीएम नीतीश की इस यात्रा में हंगामे की पूरी संभावना है. इसके मद्देनजर आलाधिकारी अलर्ट पर हैं. शिक्षकों-बेरजोगारों-किसानों-नौजवानों से नीतीश सरकार डरी हुई है। लिहाजा, यात्रा के दौरान प्रशासन शिक्षक अभ्यर्थियों को नजरबंद कर रही है। भाजपा ने इस पर कड़ा ऐतराज जताया है और मुख्यमंत्री से पूछा है कि आप समाधान यात्रा निकाल रहे या नजरबंद यात्रा पर हैं? 

लोकतंत्र का गला घोंट रही सरकार 

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आज शिवहर और सीतामढ़ी के दौरे पर हैं। सुबह से गांव में जाकर योजनाओं का निरीक्षण कर रहे। शाम में अधिकारियों, जीविका दीदी, विधायकों-विधान पार्षदों व अन्य जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक करेंगे। नीतीश कुमार के कार्यक्रम में व्यवधान उत्पन्न न हो, इसके लिए प्रशासन लोगों को नजरबंद कर रहा। सीतामढ़ी प्रशासन ने कई शिक्षक अभ्यर्थियों को हिरासत में लिया है। इस पर बिहार बीजेपी ने आपत्ति दर्ज की है। बिहार बीजेपी के प्रवक्ता डॉ. निखिल आनंद ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा,'' सीएम नीतीश जी का 'समाधान यात्रा' नहीं, 'जन-अपमान यात्रा' या 'नजरबंद यात्रा' है। जिस जिले में सीएम नीतीश जा रहे हैं, BTET- CTET- STET उत्तीर्ण को पकड़कर नज़रबंद कर दिया जा रहा है।'' पश्चिमी चंपारण-सीतामढ़ी में सीएम के पहुँचने से पहले शिक्षक अभ्यर्थियों को पुलिस उठा ले गई। नीतीश के यात्रा वाले जिले में प्रदर्शन, नारेबाजी, कार्यक्रम करने या उसमें जाने पर DM- SP व थाना ने BTET- CTET- STET 'शिक्षक अभ्यर्थियों' को गंभीर धाराओं में केस ठोकने और अंजाम भुगतने की धमकी दी है। संविधान पर खतरे की बात करने वाला लोकतंत्र का गला घोंट रहा है।

इसके पहले 5 जनवरी को सीएम नीतीश कुमार ने बगहा में धरातल पर जाकर योजनाओं को देखा.फिर बेतिया समाहरणालय में मीटिंग की.मीटिंग के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा, ''सभी लोगों की बात सुनी है. जनप्रतिनिधियों ने कई योजनाओं पर ध्यान आकृष्ट कराया है। हमने अधिकारियों से कहा है कि शिकायत का निबटारा करें और महीने-डेढ़ महीने में शिकातकर्ता को कार्रवाई से संबंधित जानकारी दें. साथ ही सरकार को भी रिपोर्ट दें,ताकि आगे की कार्रवाई की जा सके''.  


Find Us on Facebook

Trending News