सरकारी स्कूल के बच्चे कैसे पढ़ेंगे और कैसे आगे बढ़ेंगे? 50 फीसदी बच्चों के खाते में अबतक पैसा ही नही गया....

सरकारी स्कूल के बच्चे कैसे पढ़ेंगे और कैसे आगे बढ़ेंगे? 50 फीसदी बच्चों के खाते में अबतक पैसा ही नही गया....

PATNA : बिहार में सरकारी स्कूल के बच्चों को बिना पुस्तक ही पढ़ाई करनी पड़ रही है। नए शैक्षणिक सत्र के शुरू हुए करीब 2 महीना बीतने को है, लेकिन आज तक सरकार बच्चों के खाते में राशि नहीं भेज पाई है। लिहाजा सरकारी स्कूल के बच्चे अब तक किताब नहीं खरीद सके हैं।

अब शिक्षा विभाग ने 31 मई तक बच्चों के खाते में राशि भेजने की अंतिम तारीख मुकर्रर की है। विभाग सभी डीईओ को लगातार आदेश दे रहा है, लेकिन अभी भी करीब 50 फ़ीसदी बच्चों या उनके अभिभावक के खाते में पुस्तक के लिए राशि नहीं भेजी गई है। जिसकी वजह से बच्चे किताब नहीं खरीद पा रहे हैं।

राज्य की 71000 प्राथमिक और मध्य विद्यालयों की कक्षा 1 से 8 तक के लगभग 2 करोड से अधिक बच्चों को किताब के लिए पैसे देना है शिक्षा का अधिकार कानून के तहत कक्षा 1 से 8 तक के बच्चों को मुफ्त किताबें दिलाने का प्रावधान किया गया है ।

इस वर्ष बच्चों को किताब के लिए सभी जिलों की मांग के आधार पर 528 करोड़ 87 लाख 20000 दिए गए हैं। इन पैसों को जिला स्तर पर सभी बच्चों या उनके अभिभावक के खाते में राशि भेजनी है। कक्षा 1 से 5 तक के बच्चों को ढाई सौ रुपए और कक्षा 6 से 8 तक के बच्चों को 400 की दर से राशि उनके खाते में भेज दी है। लेकिन शिक्षा विभाग के अधिकारियों और बैंक की लापरवाही की वजह से एक बार फिर से बच्चों का भविष्य चौपट होने के कगार पर पहुंच गया है। क्योंकि जब किताब ही नहीं रहेगा तो बच्चे कैसे पढ़ेंगे और कैसे आगे बढ़ेंगे।

विवेकानंद की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News